Bageshwar Dham के बाबा Dhirendra Krishna Shastri ने मीडिया वालों को क्या चैलेंज दिया |Madhya Pradesh

Publish Date: 19 Jan, 2023 |
 

अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति के संस्थापक और नागपुर की जादू-टोना विरोधी नियम जनजागृति प्रचार-प्रसार समिति के सह अध्यक्ष श्याम मानव ने बागेश्वर धाम के पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के खिलाफ पुलिस को शिकायत दी है। उन्होंने दी गई शिकायत और मीडिया से कहा है कि नागपुर में पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री की कथा 5 से 13 जनवरी होनी थी। आमंत्रण पत्र और पोस्टर में भी 13 जनवरी तक कथा का जिक्र था। कथा पूरी करने के दो दिन पहले ही वे नागपुर से चले गए।

 

30 लाख रुपए का प्राइज देने का ऐलान किया था समिति ने 

आपको बता दें कि समिति ने 30 लाख रुपए का प्राइज देने का ऐलान किया था। समिति अपने 10 लोगों को धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के सामने लेकर गई उन्हें अपने अंतर ज्ञान से उनके बारे में बताना था। इसमें उनका नाम, नंबर, उम्र और उनके पिता का नाम बताना था। इसके अलावा पास के कमरे में 10 चीजें रखी थी, उन 10 चीजों को उन्हें पहचान कर बताना था। यदि वे 90 फीसदी रिजल्ट देते, तो समिति ने उन्हें 30 लाख रुपए का प्राइज देने का ऐलान किया था। हालांकि इसके लिए उन्हें 3 लाख रुपए डिपॉजिट करना होता। श्याम मानव के मुताबिक उन्होंने चुनौती नहीं स्वीकारी और पहले ही नागपुर से रवाना हो गए। श्याम मानव ने धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के दरबार के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

बागेश्वर धाम के पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने स्वीकार करी चुनौती

लेकिन अब नया मामला सामने आया है जहां बागेश्वर धाम के पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने नागपुर समिति की ओर से मिली चुनौती को स्वीकार कर लिया है। बागेश्वर धाम के पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने नागपुर समिति के 30 लाख रूपये के ऑफर को भी ठुकरा कर उनके सभी सवालों के फ्री में जवाब देने का ऐलान किया है। लेकिन इसके लिए नागपुर समिति को रायुपर के दरबार में आना पड़ेगा। बागेश्वर धाम के पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने कहा है कि समिति के सदस्यों का आने जाने का खर्च भी बागेश्वर सरकार ही उठाएगी।

 

Related videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept