Bihar Panchayat Chunav 2021: राज्य में चुनाव के लिए 170 प्रेक्षकों की हुई तैनाती, देखें पूरी लिस्ट

Publish Date: 13 Sep, 2021
Jagran Bihar Panchayat Chunav 2021: राज्य में चुनाव के लिए 170 प्रेक्षकों की हुई तैनाती, देखें पूरी लिस्ट

Bihar Panchayat Chunav 2021: 

बिहार पंचायत चुनाव को ध्यान में रखते हुए राज्य निर्वाचन आयोग की ओर से अलग-अलग जिलों के लिए 170 प्रेक्षकों की तैनाती हुई है। चुनाव को ध्यान में रखते हुए इन सभी प्रेक्षकों की ट्रेनिंग भी शुरु कर दी गई है। वहीं, पटना में सभी 23 प्रखंडों में निर्वाची अधिकारी  BDO को ही बनाया गया है। 

 

कौन बना प्रेक्षक

राज्य निर्वाचन आयोग की ओर से अलग-अलग विभागों में तैनात किए गए एडीएम, उप सचिव, संयुक्त सचिव के लेवल के पदाधिकारियों को प्रेक्षक का औदा दे दिया गया है। जिन अधिकारियों को प्रेक्षक बनाया गया है उनमें शामिल हैं बिहार के, राज्य खाद्य निगम, श्रम संसाधन विभाग, निबंधन, उत्पाद एवं मद्य निषेध विभाग, लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग, समाज कल्याण विभाग, भू-अर्जन निदेशालय, विज्ञान एवं प्रावैद्यिकी विभाग, अल्पसंख्यक कल्याण विभाग, पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग, बिहार विद्यालय परीक्षा समिति, ऊर्जा विभाग, योजना पर्षद, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग, बिहार लोक सेवा आयोग, आपदा प्रबंधन विभाग, पिछडा वर्ग एवं अति पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग, सहकारिता विभाग, बिहार राज्य अल्पसंख्यक वित निगम, बिहार राज्य चिकित्सा सेवा इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी लिमिटेड, परिवहन विभाग,भवन निर्माण विभाग, बिहार कर्मचारी चयन आयोग, सामान्य प्रशासन विभाग, जीविका हैं। 

 

दूसरे राज्य की दुल्हन का नहीं होगा नामांकन 

आयोग की ओर से जारी किए गए इस आदेश के बाद से दूसरे प्रदेशों से आई हुई दुल्हनों के लिए काफी मुश्किल हो गई है। आयोग के आदेश के मुताबिक राज्य सरकार की ओर से जाति प्रमाण पत्रों को ही जातिगत तौर पर आरक्षित सीटों के नामांकन के लिए लाया जाएगा। तो इसका मतलब ये है कि जो सीटें अनूसूचित जाति, अनूसूचित जनजाति और पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित की गई हैं। वहां पर प्रदेश का ही जातिप्रमाण पत्र माना जाएगा। बता दें कि इस बार आयोग ने साल 2011 में बिहार सरकार की ओर से जारी आदेश का हवाला देकर ये निर्देश दिया है। 

 
 

Related Videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept