Booker Prize 2022: Hindi भाषा के इस पहले उपन्यास को मिला International Booker Prize 2022| Geetanjali Shree

Publish Date: 27 May, 2022 |
 

Booker Prize 2022: हिंदी भाषा को देश में बढ़ावा लगातार दिया जा रहा है, तो वहीं दुनिया में भी अब हिंदी का बोल बाला हो गया है। हिंदी का यह बोलबाला इस कदर जमकर बोल रहा है कि 'Sand of Tomb' एक हिंदी उपन्यास है, जिसे हाल ही में अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार मिला है। हिंदी भाषा का उपन्यास रेत समाधि को ही अनुवाद किया गया है। जिसका नाम 'Sand of Tomb' हैं, इस उपन्यास को Geetanjali Shree द्वारा लिखा गया है और Daisy Rockwell द्वारा इसे अंग्रेजी भाषा में अनुवाद किया गया है। 

 

भारतीय भाषा का लहराया परचम 

वहीं, इस पुरुस्कार के मिलने के बाद सोशल मीडिया पर हिंदी का एकबार फिर से जलवा देखने को मिला है। दरअसल, यह पुरूस्कार इसलिए भी ख़ास है, क्योंकि यह हिंदी का पहला उपन्यास है, जिसे इस पुरुस्कार से नवाजा गया है। 

 

इस कारण दिया जाता है पुरूस्कार 

आपको बता दें कि बुकर पुरस्कार हर साल उस किताब को मिलता है, जिसका अंग्रेज़ी में प्रकाशन यूके या आयरलैंड में हुआ हो। इतना ही नहीं, इस पुरस्कार में  50 हज़ार पाउंड का नक़द पुरस्कार भी दिया जाता है। जो कि लेखक और अनुवादक के बीच बराबर भाग में विभाजित होती है। 

 

Geetanjali Shree ने जताई ख़ुशी 

वहीं, इस पुरुस्कार मिलने के बाद Geetanjali Shree ने कहा, "मैंने कभी बुकर का सपना नहीं देखा था, मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं ऐसा कर सकती हूं। मैं चकित, खुश, सम्मानित और विनम्र महसूस कर रही हूं। इस पुरस्कार के मिलने से एक अलग तरह की संतुष्टि है। अमेरिका के वरमोंट में रहने वाली एक चित्रकार, लेखिका और अनुवादक रॉकवेल ने उनके साथ मंच साझा किया।"
 

Related videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept