Delhi Power Crisis: राजधानी दिल्ली में अगले 24 घंटे में बिजली हो सकती है गुल, Metro से लेकर Hospitals तक पड़ेगा असर!

Publish Date: 29 Apr, 2022 |
 

Delhi Power Crisis: देश की राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में अगले 24 घंटे तक बिजली की आपूर्ति में समस्या हो सकती है। इसको लेकर Delhi Government ने केंद्र सरकार को समीक्षा बैठक और पर्याप्त कोयला की आपूर्ति के लिए पत्र लिखा है। 

 

सत्येंद्र जैन ने बिजली जाने की वजह बताई 

वहीं, दिल्ली सरकार में ऊर्जा मंत्री सत्येंद्र जैन का मामले पर कहना है कि दादरी-राष्ट्रीय राजधानी पावर स्टेशन और फिरोज गांधी ऊंचाहार थर्मल पावर प्लांट से बिजली आपूर्ति बाधित होने के कारण यह समस्या उत्पन्न होने वाली है। जिस कारण Delhi Metro, अस्पतालों सहित अन्य जरूरी संस्थानों में 24 घंटे बिजली आपूर्ति करने में समस्या हो सकती है। उन्होंने आगे बताया कि कोयले से बड़ी मात्रा में बिजली का निर्माण होता है, ऐसे में जहां कोयले का स्टॉक कम से कम 21 दिन का रहना चाहिए, वो एक ही दिन का बचा हुआ है, जबकि कई प्लांट्स में तो कोयला बिल्कुल ही खत्म हो चुका है। 

 

CM अरविंद केजरीवाल ने जताई चिंता 

दूसरी ओर, राष्ट्रीय राजधानी में बिजली की आपूर्ति करने वाले बिजली संयंत्रों में कोयले की संभावित कमी पर CM अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार सुबह ट्वीट कर चिंता व्यक्त की है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, "देश भर में बिजली की भारी समस्या हो रही है। अभी तक दिल्ली में हम लोग किसी तरह से मैनेज किए हुए हैं। पूरे भारत में स्थिति बेहद गंभीर है। हम सबको मिलकर जल्द ही इसका समाधान निकालना होगा। इस समस्या से निपटने के लिए त्वरित ठोस कदम उठाने की ज़रूरत है।"

 

राजधानी दिल्ली में बढ़ रही है बिजली की खपत 

आपको बता दें कि दिल्ली में बिजली की मांग 6 हजार मेगावाट तक पहुंच गयी है। अप्रैल में आई यह मांग अब तक की सबसे अधिक मांग भी है। ऐसे में दिल्ली में बढती बिजली की खपत को देखते हुए आने वाले दिनों में दिल्लीवासियों को बहुत गम्भीर समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। वहीं, माना जा रहा है कि अगर बिजली की खपत इसी तरह बढती रही, तो आने वाले दिनों में यह मांग 7 हजार मेगावाट तक पहुंच सकती है।

 

 

Related videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept