Jagran Dialogues: गंभीर बीमारियों से झूझ रहे लोगों को कोरोना से बचना क्यों है जरूरी? एक्सपर्ट से जानें- Watch Video

Publish Date: 28 Sep, 2021 |
 

Jagran Dialogues के इस लेटेस्ट एपिसोड में जागरण न्यू मीडिया के Executive Editor Pratyush Ranjan ने "गंभीर बीमारियों से पीड़ित लोगों के लिए कोरोना से बचना क्यों है जरूरी और क्या करें उपाय? " इसी Topic पर अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS), गोरखपुर के कार्यकारी निदेशक Dr. Surekha Kishore से इस एपिसोड में बात की। इंडियन मेडिकल साइंस का जाना माना चेहरा मानी जाती हैं डॉ. सुरेखा किशोर। 

 

1. सवाल:- त्योहारों का सीजन शुरू होने वाला है। इन दिनों बाजार में काफी चहल पहल रहती है। हमने ऐसा देखा है कि लोग टीका लेने और कोरोना मामले घटने के बाद मास्क नहीं पहन रहे हैं। त्योहारों के सीजन में बाजार में भीड़ बढ़ रही है और आगे भी बढ़ेगी। ऐसे में Covid Appropriate Behaviour का पालन करना कितना जरूरी है-


जबाव:- डॉक्टर सुरेखा ने आभार प्रकट करते हुए कहा कि आपने बहुत अच्छा सवाल किया है। इस बारे में जानकारी देना चाहूंगी कि कोरोना महामारी के मामले भले ही कम हुए हैं, लेकिन बीमारी समाप्त नहीं हुई है। ये बीमारी अभी भी चल रही है। इसके लिए देश और दुनिया के वैज्ञानिक जानते हैं कि ऐसा हो सकता है कि तीसरी लहर आए और पहले की तरह रूप धारण कर ले। जैसा कि हम सब जानते हैं कि कोरोना का स्ट्रेन बदल रहा है और जब भी यह बीमारी अपना स्ट्रेन बदलती है, तो महामारी का रूप धारण कर लेती है। उस समय में संक्रमितों की संख्या में बड़ी तेजी से इजाफा होने लगता है। फ़िलहाल कोरोना के मामले कम हैं। इसका मतलब यह कतई नहीं है कि बीमारी ख़त्म हो गई है। वहीं, हमारा देश त्योहारों का देश है। आने वाले समय में कई त्यौहार हैं। इस दौरान लोगों की सुरक्षा हमारी प्राथमिकता है। साथ ही लोगों को भी सतर्क और जागरुक रहने की जरूरत है। इसके लिए जब कभी घर से बाहर निकलें, तो मास्क हमेशा लगाकर रखें। मास्क का इस्तेमाल बिलकुल न छोड़ें। शारीरिक दूरी का पालन करें। साथ ही अपने हाथों को नियमित अंतराल पर सैनिटाइज करें। इसके अलावा, जब कभी समय और सुविधा मिले, तो अपने हाथों को साबुन और साफ पानी से जरूर धो लें। एक चीज का अवश्य ध्यान रखें कि त्योहारों में भीड़ इकठ्ठा न करें। घर पर ही त्योहारों को मनाएं। जितना हो सके, घर से बाहर कम से कम जाएं और बाहर स्पिटिंग (थूकना) बिल्कुल न करें। इन नियमों का पालन करने से हम सब सुरक्षित रह सकते हैं।

 

2. सवाल:- Covid-19 से ठीक हुए लोगों में किस तरह की स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं ज्यादा देखी गयी है और ऐसी समस्याएं क्यों देखे जा रही हैं ?


जबाव:- इस सवाल के जबाव में डॉक्टर ने कहा-कोरोना से ठीक होने वाले संक्रमितों में कुछ साइड इफेक्ट्स हो रहे हैं। ये बीमारी ठीक होने के बाद भी होती हैं। ये बीमारियां और जटिलताएं कोरोना होने के कुछ सप्ताह बाद आती है और ठीक होने के बाद महसूस होती है। कोरोना से रिकवरी के बाद संक्रमितों को थकान बहुत महसूस होती है। सांस लेने में भी कठिनाई होती है, हल्की खांसी हो सकती है, जोड़ों का दर्द, मांसपेशियों का दर्द, सिरदर्द, सीने में दर्द, दिल की धड़कनें बढ़ सकती है। साथ ही संक्रमितों को खड़े होने पर कमजोरी की वजह से चक्कर भी आते हैं और स्वाद या गंध में कमी आती है। इसके अलावा, हमने नींद, मनोभ्रम और तनाव या अवसाद की समस्या भी नोटिस की है। यह सामान्य बात है। इसमें ज्यादा घबराने की जरूरत नहीं है। चूंकि बीमारी की वजह से कमजोरी होने या पहले से किसी गंभीर बीमारी से पीड़ितों में कोरोना रिकवरी के बाद होने वाले लक्षण देखे गए हैं। इसके लिए डॉक्टर से जरूर सलाह लें।

 
 
 

Related videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept