Joshimath Sinking: जोशीमठ में स्थिति बेहद गंभीर, बस दिख रहा एक विकल्प।Joshimath Cracks | Uttarakhan

Publish Date: 24 Jan, 2023 |
 
Joshimath Sinking: जोशीमठ में लगातार खतरा बना हुआ है, वहां के लोगों का जीवन डर के साए में बीत रहा है। ऐसे में उन लोगों की एक समस्या ये भी है कि कई सालों से निवास कर रहे लोग अपनी ज़िंदगी की शुरुआत नए सिरे से कहां करेंगे। कभी ज़मीन धंसने खतरा, कभी भूकंप के झटके तो कभी मौसम की मार झेल रहे जोशीमठ के लोगों के लिए ये समय मुसीबतों भरा रहा है। अब लोगों के सामने एक और चुनौति खड़ी है। जोशीमठ में घरों में पड़ी दरारे और चौड़ी होती नज़र आ रही है।  इस स्थिति पर अंकुश लगाने के लिए दरारों में मलबा भी भरा जाने लगा है। भवनों और जमीन पर उभरी दरारें न सिर्फ चौड़ी होती जा रही हैं, बल्कि कई जगह दरारों की लंबाई भी बढ़ रही है। उत्तराखंड अंतरिक्ष उपयोग केंद्र के पूर्व निदेशक व एचएनबी गढ़वाल केंद्रीय विश्वविद्यालय के भूविज्ञान विभाग के प्रोफेसर का कहना है कि भूधंसाव जैसी वृहद स्थिति में दरारों को भरने का प्रयास समय व धन दोनों की बर्बादी है।
 

Related videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept