Bihar के शिक्षा मंत्री पर बरसे Kumar Vishwas, कहा- दूसरे धर्म पर बोलते तो क्या जिंदा रह पाते

Publish Date: 13 Jan, 2023 |
 

आरजेडी नेता और शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर ने नालंदा विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में धार्मिक ग्रंथ रामचरितमानस पर विवादित बयान दिया था। उन्होंने कहा कि रामचरितमानस नफरत फैलाने वाला ग्रंथ है। इस पर सियासत तेज़ हो गई है। इस बयान के बाद बीजेपी ने उनके इस्तीफे की मांग की हैं

कुमार विश्वास ने चंद्रशेखर को दिखाया आइना

कवि और रामकथा सुनाने वाले कुमार विश्वास ने इसे दुर्भाग्यपूर्ण बताया है उन्होंने कहा, यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि एक प्रदेश के शिक्षा मंत्री रामकथा को विद्वेष फैलाने वाला बताएं। वह भी ऐसे विश्वविद्यालय में जोकि ज्ञान का आदि स्रोत माना जाता है। नालंदा और तक्षशिला पुरानी ज्ञानपीठिकाएं हैं। वहां पर शिक्षा मंत्री ऐसी बातें बोलते हैं वह अशोभनीय है। उन्होंने पूछा कि अगर वे दूसरे धर्म के पवित्र ग्रंथ पर ऐसा बोलते तो जिंदा बचने की कितनी संभावनाएं होती? कुमार विश्वास ने बिहार सरकार से मंत्री चंद्रशेखर यादव को हटाने की मांग की है। कवि कुमार विश्वास ने आगे कहा कि नीतीश कुमार जी का मैं बहुत आदर करता हूं। तेजस्वी भी मेरे भाई जैसे हैं। बिहार को उनसे बहुत आशाएं हैं। मैं उनसे अनुरोध करता हूं कि ऐसे व्यक्ति को संगठन और सरकार से बाहर करें। दंडित करें या उन्हें क्षमा मांगने के लिए कहें।

रामचरितमानस के अपमान पर नीतीश कुमार का मत

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि उन्हें इस बारे में पता नहीं है वह चंद्रशेखर से पूछकर बताएंगे। वहीं इस पूरे विवाद से जेडीयू ने किनारा कर लिया है। प्रदेश भाजपा नेताओं ने मंत्री चंद्रशेखर से सार्वजनिक माफी के साथ नीतीश कैबिनेट से इस्तीफे की मांग की है। बिहार बीजेपी के प्रवक्ता निखिल आनंद ने इसे मूर्खतापूर्ण बयान करार दिया। उन्होंने कहा कि महागठबंधन के नेता अपने वोटबैंक को खुश करने के लिए हिंदुओं की धार्मिक भावनाएं भड़का रहे हैं। कवि कुमार विश्वास ने चंद पंक्तियों को ट्वीट किया है। उन्होंने लिखा, तुम्हारी बज़्म से बाहर भी एक दुनिया है, मेरे हुजूर बड़ा जुर्म है ये बखबरी। 


 

Related videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept