Makar Sankranti Wish: इन खास मैसेज के जरिए अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को भेजें शुभकामनाएं

Publish Date: 12 Jan, 2023
Makar Sankranti Wish: इन खास मैसेज के जरिए अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को भेजें शुभकामनाएं

Happy Makar Sankranti Wishes: हर साल की तरह इस बार भी मकर संक्रांति के त्योहार को लेकर बड़ी रौनक देखने को मिल रही है। धूमधाम से मनाए जाने वाले इस त्योहार को कई नामों से भी जाना जाता है। मकर सक्रांति को मनाए जाने को लेकर हिंदू धर्म में मान्यता है कि इस दिन सूर्यदेव भगवान धनु राशि से निकलकर मकर राशि में प्रवेश करते हैं। जिस वजह से इस दिन को मकर संक्रांति के नाम से भी जाना जाता है।

खिचड़ी का है विशेष महत्व 

इस पावन त्योहार की शुरुआत गंगा के पवित्र जल में डुबकी लगाने से होती हैऔर फिर सूर्य देव को भोजन और मिठाई का भोग लगाया जाता है और पूजा की जाती है। मकर सक्रांति के इस पर्व को खिचड़ी के नाम से भी जाना जाता है। जिसकी वजह यह है कि मकर संक्रांति समारोह में खिचड़ी एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, जोअधिकांश घर पर तैयार किया जाता है। वहीं, मकर संक्रांति के खास मौके पर आप अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को ये खास मैसेज भेजकर इस पर्व की खुशियों को एक-दूसरे के साथ बांट सकते है।

इन संदेशों के जरिए दे सकते है शुभकामनाएं 

मीठी बोली, मीठी जुबान
मकर संक्रांति पर यही है पैगाम
मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनाएं!


 
सूरज की राशि बदलेगी,
बहुतों की किस्मत बदलेगी,
यह साल का पहला पर्व होगा,
जो बस खुशियों से भरा होगा
हैप्पी संक्रांति 


 
मुंगफली की खुशबू
और गुड़ की मिठास
दिलों में खुशी और अपनो का प्यार,
मुबारक हो आपको
मकर संक्रांति का त्योहार!!

 
तिल हम हैं और गुड़ हैं आप
मिठाई हम हैं और मिठास हैं आप
मकर संक्रांति से हो रही है साल की शुरुआत
मुबारक हो आपको मकर संक्रांति का त्यौहार!


 
तिलकुट की खुशबू दही-चिवड़ा की बहार,
मुबारक हो आपको मकर संक्रांति का त्योहार।
Happy Makar Sankranti 


 
सपनों को लेकर मन में, उड़ाएंगे पतंग
आसमान में ऐसी भरेगी उड़ान, जो भर देगी जीवन में खुशियों की तरंग
Happy Makar Sankranti 

Related Videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept