Paralympics 2020 : पैरालिंपिक में निषाद कुमार ने जीता सिल्वर मेडल, जानें उनके संघर्ष की कहानी

Publish Date: 29 Aug, 2021
Paralympics 2020 : पैरालिंपिक में निषाद कुमार ने जीता सिल्वर मेडल, जानें उनके संघर्ष की कहानी

 

Paralympics 2020: टोक्यो में खेले जा रहे पैरालिंपिक खेलोंमें रविवार दिन बेहद ही खास रहा है। भरत ने आज तीन मेडल अपने नाम किए हैं। पुरुषों की ऊंची कूद में निषाद कुमार ने भी रजत पदक अपने नाम किया। निषाद कुमार ने टोक्यो पैरालिंपिक प्रदर्शन करते हुए देश के लिए पदक जीता है। उन्होंने एशियाई रिकॉर्ड कायम करते हुए 2.06 ऊंची मीटर की कूद लगाई और मेडल अपने नाम कर लिया। इस साल फरवरी में निषाद कुमार पॉजिटिव भी हो गए थे, लेकिन कोरोना का काम देकर जमकर प्रैक्टिस शुरू कर दी और अब परिणाम सबके सामने है।

टाउनसेंड ने 2.15 मीटर की छलांग लगाई जबकि वाइज ने 2.06 मीटर की छलांग लगाई। निषाद और वाइज दोनों एक ही अंक पर समाप्त हुए, लेकिन निषाद ने अपने पहले प्रयास में 2.02 अंक को पार कर लिया था, जबकि वाइज ने दो अंक प्राप्त किए, परिणामस्वरूप, निषाद ने रजत जीता। भारत के रामपाल चाहर 1.94 मीटर की छलांग के साथ पांचवें स्थान पर रहे। 

Nishad Kumar Biography

निषाद कुमार हिमाचल प्रदेश के यूएनए जिले से ताल्लुक रखते हैं। 3 अक्टूबर 1999 को जन्मे निषाद ने अपने जीवन मेंकाफी कठिनाइयों का सामना किया है। शीर्ष पर पहुंचने के लिए उन्होंने अविश्वसनीय रूप से कड़ी मेहनत की। निषाद ने अपनी उच्च शिक्षा लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी से शारीरिक शिक्षा में प्राप्त की और यह कहना उचित होगा कि उन्होंने अपनी संस्था और देश को गौरवान्वित किया है।

 

Nishad Kumar Career 

निषाद कुमार ने अपने  करियर की शुरुआत 2009 में पैरा एथलेटिक्स से ही की थी और उसके बाद से उन्होंने कभी भी पीछे मुड़कर नहीं देखा। विश्व पैरा एथलेटिक्स ग्रां प्री के लिए 12वीं फ़ैजा अंतर्राष्ट्रीय चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक विजेता व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ 2.06 मीटर की छलांग के बाद टोक्यो पैरालिंपिक के लिए भारतीय दल में शामिल हो गए। टोक्यो में भी उनका प्रदर्शन शानदार रहा है। हिमाचल प्रदेश के इस युवा खिलाड़ी ने टोक्यो पैरालिंपिक में रजत पदक जीतकर देश को गौरवान्वित किया है।

 

Nishad Kumar Coach

निषाद कुमार अभी सिर्फ 21 साल के हैं। उन्होंने 2009 में मंच पर धमाका किया और श्री सत्यनारायण के मार्गदर्शन मेंकई पुरस्कार हासिल किए।

 

 

 

 

Related Videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept