Punjab Assembly Elections 2022: चुनाव घोसणा पत्र में पर्यावरण का मुद्दा शामिल करने की माँग

Publish Date: 22 Jan, 2022 |
 

Punjab Election 2022: Green Manifesto in Punjab

पंजाब की सभी 117 सीटों पर 20 फरवरी को वोट डाले जाएंगे।चुनाव के नतीजे 10 मार्च को आएंगे। लेकिन इस बार पंजाब चुनाव में ग्रीन मैनिफेस्टो चर्चा में है।

पंजाब विधानसभा चुनाव के बठिंडा क्षेत्र में पर्यावरण प्रेमी और संरक्षण करने वाले  पद्मश्री विजेता संत बलबीर सिंह का मानना है कि लागत प्रदुषित हो रहीं नदियां, जंगल और पर्यावरण को भी चुनावी मेनिफेस्टटो में जगह देनी चाहिए।देश और दुनिया के संगठन, इस विषय में लगातार शोध करके चेतावनी देते रहते हैं।लेकिन बावजूद इसके, न ये मुद्दे चुनाव का हिस्सा बनते हैं और न इसपर वोट दिया जाता है।यह हम सब के लिए आने वाले भविष्य में ख़तरे की घंटी है। 

क्या है ग्रीन मेनिफेस्टटो: 
चुनाव का रंग चढते ही, असल मुद्दे ठंडे बस्ते में पड़ जाते हैं।इससे कौन वाकिफ नहीं, वोट बैंक और जाति, मजहब की राजनीति में पर्यावरण दूर की कौड़ी साबित होती है।पंजाब विधानसभा चुनाव में, पर्यावरण प्रेमियों की सभी राजनैतिक पार्टियों से गुजारिश है कि वे अपने चुनावी वादों को ग्रीन मेनिफेस्टटो के रूप में लाए।जिससे यह स्पष्ट हो सके कि जो सरकार बनने वाली है, वो पर्यावरण के संरक्षण को लेकर क्या क्या कदम उठाएगी। 

जनता के जागरुकता से ही समाधान -

विधानसभा चुनाव में अगर जनता असल मुद्दों पर वोट देना शुरू कर दें तो जाहिर है कि राजनैतिक दलों को भी न चाहते हुए, इनपर काम करना पड़ेगा।पीने और पानी से लेकर हवा और उपजाऊ जमीन भी इसका शिकार हो रहीं।विकास के नाम पर जंगलों को खत्म करके, बिल्डिंग और रोड बनाए जा रहे।हर पिछले वर्ष की तुलना में, तापमान बढ़ रहा।ऐसे में जन जागरुकता से ही, इसका समाधान हो पायेगा अन्यथा राजनीति तो हमेशा फायदा और मुख्य मुद्दे से इतर की जाती रहीं है।
 

Related videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept