Reasons For Flood In India: इन 5 राज्यों में बाढ़ से हुआ बुरा हाल, जानें हर साल क्यों आती है बाढ़?

Publish Date: 10 Aug, 2021 |
 

 

Reasons For Flood In India:  महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, राजस्थान, बिहार और हिमाचलमें बारिश आफत बन चुकी है। मिली जानकारी के अनुसार, इन राज्यों में 5 राज्यों में बाढ़ से 8 लाख हेक्टेयर से ज्यादा ज्यादा इलाके में खरीफ पूरी तबाह हो चुकी है। फसलें तबाह होने के साथ पुल और पुलिया भी बह गए हैं। यूपी के भी कई शहर बाढ़ का सामना कर रहे हैं। वाराणसी से लेकर प्रयागराज तक सैलाब में शहर तबदील हो गया है। बारिश वाले राज्यों में बंगाल से लेकर सिक्किम और पूर्वोत्तर के राज्य भी शामिल है। यहां पर 24 से 48 घंटों में मानसून के कहर बरसा सकता है।

 बाढ़ के कारण सैकड़ों लोगों की मौत भी हो चुकी है। ऐसे में सवाल है जो हमेशा सामने आता है कि भारत में इतनी भयंकर बाढ़ क्यों आती है। दरअसल, भारत तीन ओर से समुद्र, अरब सागर, हिन्द महासागर और बंगाल की खाड़ी से घिरा हुआ है। इसलिए भारत के ज्योलॉजिक सर्वे ऑफ इंडिया भी कहा जाता है। तीनों तरफ से समुद्र से घिरे होने के कारण बाढ़ की विभीषिका को लेकर ज्यादा खतरा होता है।

बाढ़ के प्रमुख कारण

मौसम संबंधी तत्व

मौसम संबंधी तत्त्वमॉनसून के सीजन में तीन से चार महीने तक बारिश होती है। इसके कारण ही नदियों का जलस्तर बढ़ जाता है। जो बाढ़ का कारण बनता है। अगर एक दिन में 15 सेंटीमीटर उससे अधिक बारिश हो तो बाढ़ का खतरा बना रहता है।

 

बादल का फटना

अक्सर देखा जाता है कि पहाड़ी इलाकें जैसे -कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में बादल फटने की खबर सामने आती है। दरअसल, पहाड़ी इलाकों में बादल के कारण नदियों का जलस्तर बढ़ जाता है और नदी उफान पर आ जाती है। जिसके बाद नदी का पानी तट को पार कर जाता और नीचे बहता है। इस दौरान रास्ते में आने वाली हर चीज तबाह हो जाती है।

गाद

पहाड़ी इलाकों में बहने वाली नदियां अपने साथ रेत, मलबा और गाद लेकर आती है। इसके बाद लंबे समय तक इनकी सफाई नहीं होने के चलते नदी का रास्ता रुक जाता है और पान का स्तर बढ़ने से आस-पास के इलाकों में फैल जाता है, जो धीरे-धीरे बाढ़ का रूप ले लेता है।

 

 

 

Related videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept