Tokyo Olympics 2020 : हॉकी टीम से पीएम मोदी ने की फोन पर बात, वीडियो में देखें क्या बोले पीएम

Publish Date: 05 Aug, 2021
Google Tokyo Olympics 2020 :   हॉकी टीम से पीएम मोदी ने की फोन पर बात, वीडियो में देखें क्या बोले पीएम

 

Tokyo Olympics 2020 :  टोक्यो ओलंपिक्स में भारतीय मेंस हॉकी टीम (Indian Men’s Hockey Team)  ने आज इतिहास रच दिया है। भारतीय मेंस हॉकी टीम ने जर्मनी को 5-4 से हराकर कांस्य पदक अपने नाम कर लिया है। ओलंपिक्स में मेंस हॉकी टीम ने 41 साल बाद कोई पदक जीता है। इस जीत के साथ ही पूरे देश जश्न मन मना रहा है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी खिलाड़ीयों को जीत की बधाई दी है। जीत के बाद खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फोन करके हॉकी टीम को बधाई दी है।

 

पीएम मोदी ने की कप्तान मनप्रीत सिंह से बात

पीएम मोदी ने ने भारत हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह और कोच ग्राहम रीड और सहायक कोच पीयूष दुबे से फोन पर बात कर इस जीत के लिए बधाई दी है। पीएम मोदी ने कहा, “बहुत बहुत बहुत बधाई, पूरा देश नाच रहा है आपकी मेहनत काम कर रही है, सभी खिलाड़ियों को बधाई।” वहीं मनप्रीत सिंह कहा कि, आपका मोटिवेशन बहुत काम आया सर।”

पीएम मोदी ने आगे कहा कि, उस दिन आपकी आवाज ढीली-ढीली थी। आज पूरा जोश है। आप लोगों की मेहनत काम कर रही है। मेरी तरफ से सभी खिलाड़ियों को बधाई देना। हम 15 अगस्त को मिल रहे हैं, मैंने सभी को बुलाया है, उस दिन मिलेंगे।

पीएम मोदी ने कोच से भी की बात

पीएम मोदी ने रीड से बात करके इतिहास रचने के लिए कोट को बधाई दी। रीड ने कहा कि सेमीफाइनल के हार के बाद प्रेरणा मिली थी। वहीं इससे पहले पीएम मोदी ने ट्वीट किया था कि, ऐतिहासिक :यह दिन हर भारतीय की स्मृतियों में हमेशा रहेगा। कांस्य पदक जीतने के लिये हमारी पुरूष हॉकी टीम को बधाई। इससे उन्होंने पूरे देश को, खासकर युवाओं को रोमांचित किया है। भारत को अपनी हॉकी टीम पर गर्व है।

 

Manpreet Singh Wife, Education & Family Background

भारतीय हॉकी टीम के कप्तान मैदान मनप्रीत सिंह मैदान के बाहर  भले ही आक्रामक ने हो लेकिन जैसे ही वो मैदान में आते हैं तो वह कठिन से कठिन स्थिति में भी आपनी टीम को जीत दिला सकते हैं। जालंधर के पास मीठापुर गांव में जन्मे  मनप्रीत बेहद छोटी ही उम्र में इस खेल से जुड़ गए थेइस शहर ने देश को कई महान खिलाड़ी दिए है। मनप्रीत के दोनों भाई स्कूस में हॉकी टीम के खिलाड़ी थे उन्हें किसी स्टार की तरह देखा जाता है। पूर्व कप्तान और पद्मश्री अवार्डी परगट सिंह मितापुर में डिप्टी पुलिस सुपरिटेंडेंट के रूप में काम कर रहे थे। ऐसे में हॉकी खेलना युवा मनप्रीत के लिए स्वाभाविक था।

जब मनप्रीत ने हॉकी खेलना शुरू किया थातो उनकी मां ने इसे नहीं खेलने की सहाल दी थीक्योंकि उन्हें लगता था कि हॉकी एक खतरनाक खेल है। लेकिन मनप्रीत के जूनन को देखकर उनकी मां भी मान गई। करीब साल बाद उनकी मेहनत ने परिवार को भी विश्वास दिला दी था और इसके बाद उनके परिवार ने उनका दाखिला जालंधर के करीब सुरजीत हॉकी ऐकेडमी में कर दिया था। इसके बाद उनका सफर आगे ही बढ़ता गया।


Manpreet Singh Career and net worth

मनप्रीत सिंह ने साल 2011 में जूनियर और सीनियर भारतीय टीम में डेब्यू किया थाइसके बाद उन्होंने अगले साल उन्होंने 2012 लंदन ओलंपिक में भी भारतीय टीम के सदस्य थे। दुर्भाग्य से भारत का हॉकी के सबसे भव्य मंच पर निराशाजनक प्रदर्शन किया थाअपने सभी मैच हारने के बाद समूह तालिका में अंतिम स्थान पर रहा। मनप्रीत भी स टीम का हिस्सा थे जो 2014 विश्व कप के लिए नीदरलैंड गई गई थीयहां भी भारतीय टीम का प्रदर्शन खराब रहा था। भारतीय टीम मलेशिया के ऊपर पूल ए में 5वें स्थान पर रही। वहीं पुरुषों की हॉकी टीम ने 2014 इंचियोन खेलों में स्वर्ण पदक अपने नाम किया था। फाइनल में उन्होंने पाकिस्तान को 4-2 से हरा दिया था। इसके दो साल बाद मनप्रीत ने लंदन में 2016 की पुरुष हॉकी चैंपियनशिप में अपने पक्ष की रजत पदक जीतने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।



 

 

Related Videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept