UP Election 2022: PM Modi से CM Yogi तक, Sidhu से CM Channi, भारत की Top 5 ख़बरें- Watch Video

Publish Date: 21 Dec, 2021 |
 

UP Election 2022: 

केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी सोमवार को जौनपुर पहुंचे और उन्होंने तीन राष्ट्रीय राजमार्ग और कई विकास परियोजनाओं के लोकार्पण और शिलान्यास किया। इस दौरान जनसभा को संबोधित करते हुए नितिन गडकरी ने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ सरकार की जमकर तारीफ की। नीतिन ने विश्वास दिलाया कि यूपी की सड़कें यूरोपियन स्टैंडर्ड ही नहीं बल्कि अमेरिका जैसी होंगी ऐसा कहा। 



नितिन गडकरी का भाषण

नितिन गडकरी ने भाषण में कहा, "मेरे पास मंत्रालय भी ऐसा है, जहां पैसों की कोई कमी नहीं है। प्रदेश मांगते-मांगते थक जाएंगे, लेकिन हम देते-देते नहीं थकेंगे। मैं वचन देता हूं कि डबल इंजन की सरकार बनने दीजिए, यूपी में आने वाले पांच सालों में करोड़ों रुपयों के काम होंगे। उन्होंने आगे कहा, "योगी जी ने यूपी से गुंडाराज को उखाड़ फेंका है। माफियाराज को बुलडोजर के नीचे दबा दिया है। अगर रामराज्य की परिकल्पना की जाए तो आज यूपी में उसका सपना साकार होता दिख रहा है। आज पूरा देश योगी जी को इस बात के लिए याद करता है कि उन्होंने यूपी को माफियाओं से मुक्ति दिलाकर विकास की राह पर लाकर खड़ा कर दिया है। योगी जी ने यूपी को एक नई पहचान दिलावाई है।"


वहीं, सीएम योगी ने कहा, "जौनपुर की इमरती भी दुनिया के देशों में मिठास लाती है। परिवार वंश के नाम पर राजनीति करने वाले बड़ी सोच नहीं दे सकते। जब भी कोई नौकरी निकलती थी तो पूरा खानदान निकल पड़ता था। 2017 के पहले ये लोग गरीबों का अन्न छिनने का काम करते थे। बीजेपी समाधान लेकर आती है और हमनें जो कहा वो करके दिखाया है। साढ़े चार वर्ष में कोई दंगा यूपी में नहीं हुआ है और यही नया यूपी है।"


Golden Temple में हुई बेअदबी पर सिद्धू का बयान 

वहीं, पंजाब की बात की जाए तो पंजाब कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू ने धार्मिक ग्रंथों को अपवित्र करने वालों के लिए सार्वजनिक फांसी की मांग की है। रविवार को मलेरकोटला में एक रैली को संबोधित करते हुए सिद्धू ने कहा कि इस तरह के मामलों से लोगों की भावनाएं आहत होती हैं और आरोप लगाया कि चुनाव से पहले राज्य में शांति भंग करने की साजिश रची जा रही है। उन्होंने कहा, "पंजाब की शांति भंग करने की साजिश चल रही है। जहां कहीं भी बेअदबी होती है, चाहे वह कुरान शरीफ की हो या भगवद गीता की या गुरु ग्रंथ साहिब की, उन्हें (दोषियों को) सार्वजनिक रूप से फांसी दी जानी चाहिए और उन्हें सबसे बड़ी संवैधानिक सजा दी जानी चाहिए।"





 

Related videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept