Bird Flu News ALERT : बर्ड फ्लू अंडा-चिकन खाने से होता है या नहीं, पशुपालन मंत्री गिरिराज ने बताया – Watch Video

Publish Date: 07 Jan, 2021 |
 

 Bird Flu News ALERT : देश में कोरोना महामारी का कहर के साथ बर्ड फ्लू का खतरा भी मंडराने लगा है। देश के कई में बर्ड फ्लू के मामले सामने आए हैं। फिलहाल, देश के 6 राज्यों में बर्ड फ्लू के मामले सामने आ चुके हैं। Rajasthan, Gujarat Madhya Pradesh, Punjab, Himachal Pradesh और Kerala में बर्ड फ्लू की पुष्टि हो चुकी है। इसी बीच केन्द्रीय पशुपालन मंत्री गिरिराज सिंह ने Media से बात करते हुए कहा कि, "कुछ जगहों पर बर्ड फ़्लू से ज़्यादातर प्रवासी और जंगली पक्षियों के मरने की रिपोर्ट आई है। मीट और अंडे को पूरी तरह पकाकर खाएंय़ घबराने की कोई बात नहीं है। राज्यों को सतर्क कर हरसंभव मदद की जा रही है।'' 

सबसे पहले बर्ड फ्लू के मामले Rajasthan में सामने आए थे। इसी बीच एक राहत भरी खबर भी सामने आई है, अभी तक बर्ड फ्लू के लक्षण इंसानों में नहीं पाए गए हैं। वहीं अब केंद्र सरकार भी ऐक्शन नजर आ रही है। केंद्र सरकार ने पशुपालन और डेयरी विभाग ने साथ मिलकर बर्ड फ्लू के खिलाफ काम कर रहे हैं। दोनों विभाग ने मिलकर दिल्ली में कंट्रोल रूम बनाया है। इस कंट्रोल रूम से राज्यों द्वारा बर्ड फ्लू के खिलाफ उठाए जा रहे कदमों पर नजर रखी जाएगी।

केरल सरकार ने बर्ड फ्लू को राजकीय आपदा घोषित कर दिया है। राज्य में अलर्ट जारी किया गया है। केरल के कोट्टायम और अलप्पुझा में कई सारे बर्ड फ्लू के मामले सामने आए हैं। वहीं मध्य प्रदेश के मंदसौर और कर्नाटक के बंगलुरु में चिकन और अंडे की दुकाने बंद रहेंगी। बर्ड फ्लू के चलते हरियाण में 1 लाख से ज्‍यादा मुर्गियों की मौत हो गई है। बर्ड फ्लू के बढ़ते मामलों को देखते हुए हिमाचल प्रदेश सरकार ने मछली, मुर्गे, अंडों की बिक्री पर रोक लगा दी गई है। हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले के पोंग बांध झील में प्रवासी पक्षियों मृत पाए गए। जांच के बाद पता चला है कि इन पक्षियों की मौत बर्ड फ्लू से हुई है। वहीं राजस्थान में भी कई जिलों में पक्षियों की मौत के मामले सामने आए हैं। इस खबर के बारे में और अधिक जानने के लिए देखिए ये Video...

 

 

Related videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept