Delhi Violence Case की सुनवाई करने वाले Justice S Muralidhar के Transfer पर BJP-Congress आमने- सामने - Watch Video

Publish Date: 27 Feb, 2020

Delhi Violence Case: Delhi High Court के जज Justice S Murlidhar के Transfer को लेकर राजनीति शुरू हो गई है। कांग्रेस महासचिव Priyanka Gandhi Vadra ने Delhi Violence के मामले में सुनवाई करने वाले जज के तबादले को लेकर BJP पर निशाना साधा है। प्रियंका गांधी ने Tweet कर कहा कि जस्टिस मुरलीधर का मौजूदा विवाद के दौरान आधी रात में तबादला चौंकानेवाला नहीं है। लेकिन यह दुखद और शर्मनाक है। सरकार न्याय का मुंह बंद करना चाहती है। लाखों भारतीयों को एक न्यायप्रिय और ईमानदार न्यायपालिका में विश्वास है, न्याय को विफल करने और उनके विश्वास को तोड़ने के सरकार के प्रयास दुस्साहसी हैं। तो वहीं Rahul Gandhi ने कहा कि बहादुर जज लोया को याद कर रहा हूं, उनका तबादला नहीं हुआ था। इसके बाद Congress प्रवक्तान Randeep Surjewala ने PC कहा कि ऐसा लगता है कि Central Govt दिल्लीh हिंसा की निष्प्क्ष जांच नहीं चाहती है। भारतीय न्यायपालिका निष्पनक्ष काम करती है। न्यायपालिका का सिर्फ एक ही धेय होता है, सत्यीमेव जयते। जज मुरलीधर का तबादला कई सवाल खड़े करता है। आखिर, क्योंय जज मुरलीधर का तबादला किया गया? क्याज भाजपा अपने उन नेताओं को बचाना चाहती है, जिनके खिलाफ हिंसा भड़काने को लेकर कार्रवाई करने का सुझाव दिया गया है। तो इसके जवाब में कानून मंत्री Ravi Shankar Prasad ने ट्वीट कर कहा, 'जस्टिस एस मुरलीधर का तबादला भारत के चीफ जस्टिस की अध्यक्षता वाले सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम की 12 फरवरी की सिफारिश के अनुसार किया गया था. जज का ट्रांसफर करते समय जज की सहमति ली जाती है. अच्छी तरह से तय प्रक्रिया का पालन किया गया है. और हम न्यायपालिका की स्वतंत्रता का सम्मान करते हैं. न्यायपालिका की स्वतंत्रता से समझौता करने में कांग्रेस का रिकॉर्ड है. इमरजेंसी के दौरान जजों को नजरअंदाज किया गया. जब फैसला उनकी पसंद का हो, तभी खुश हों अन्यथा संस्थानों पर ही सवाल उठाएं. बता दें कि केंद्र सरकार ने बुधवार को न्यायमूर्ति एस मुरलीधर को दिल्ली हाईकोर्ट से Punjab और Haryana High Court में ट्रांसफर करने की अधिसूचना जारी की है।

Read More..

Related videos