Cow Dung 'Chip': राष्ट्रीय कामधेनु आयोग ने लॉन्च की गाय के गोबर की चिप, आयोग का दावा-'मोबाइल का रेडिएशन कम करने में है सफल' – Watch Video

Publish Date: 13 Oct, 2020
 

Cow Dung 'Chip': राष्ट्रीय कामधेनु आयोग के अध्यक्ष वल्लभभाई कथीरिया ने गाय के गोबर को लेकर एक बड़ा दावा किया है। वल्लभभाई कथीरिया का दावा है कि गोबर radiation को रोक सकता है, जिसका इस्तेमाल मोबाइल में किया जाना चाहिए। उन्होंने गाय के गोबर से बनी एक चिप का अनावरण किया जो उनके हिसाब से मोबाइल में इस्तेमाल होनी चाहिए। है।  इस चिप को गौसत्व कवच का नाम दिया गया है। गौसत्व कवच को गुजरात के राजकोट स्थित श्रीजी गौशाला द्वारा निर्मित किया गया है।  देशव्यापी अभियान 'कामधेनु दीपावली अभियान' के शुभारंभ पर बोलते हुए, जिसका उद्देश्य गाय के गोबर उत्पादों को बढ़ावा देना है। कथीरिया ने इस दौरान कहा,  “देखिए यह एक रेडिएशन चिप है। आप इसे अपने मोबाइल में रख सकते हैं। हमने देखा है कि यदि आप इस चिप को अपने मोबाइल में रखते हैं, तो यह रेडिएशन को काफी कम कर देता है। अगर आप बीमारी से बचना चाहते हैं” उन्होंने ने आगे बताया कि, “आयोग दीयों के अलावा गोबर, गौमूत्र और दूध से बने अन्य उत्पादों जैसे कि एंटी-रेडिएशन चिप, पेपर वेट, गणेश और लक्ष्मी की मूर्तियों, अगरबत्ती, मोमबत्तियों और अन्य चीजों के उत्पादन को बढ़ावा दे रहा है। गोबर आधारित उत्पादों की विशाल संभावनाएं मौजूद हैं। आयोग सीधे तौर पर गोबर आधारित उत्पादों के उत्पादन में शामिल नहीं है, लेकिन यह व्यवसाय स्थापित करने को इच्छुक स्वयं सहायता समूहों और उद्यमियों को प्रशिक्षण देने की सुविधा प्रदान कर रहे हैं।" गाय के गोबर से बने अन्य उत्पादों को प्रदर्शित करते हुए, आरकेए के अध्यक्ष ने कहा, गाय का गोबर radiation विरोधी है। यह सभी की सुरक्षा करता है, यदि आप इसे घर लाते हैं तो आपकी जगह radiation मुक्त होगी। यह वैज्ञानिक रूप से सिद्ध है। कथीरिया ने कहा, 500 से अधिक गौशालाएं इस तरह के एंटी-रेडिएशन चिप्स का निर्माण कर रही हैं। एक चिप की कीमत 50 से 100 रुपये के बीच होती है। एक व्यक्ति ऐसे चिप्स को अमेरिका में निर्यात कर रहा है, जहां वह इसे $ 10 प्रति चिप की दर से बेच रहा है। इस खबर के बारे में और अधिक जानने के लिए देखिए ये Video…

 

Related videos

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept