Farmers Protest: सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव बोले- कृषि कानून की आड़ में किसानों की ज़मीन हड़पने का षडयंत्र – Watch Video

Publish Date: 01 Dec, 2020 |
 

किसानों का विरोध प्रदर्शन आज भी जारी है। अब बीजेपी सरकार पर विपक्ष जमकर हमला साधा रहा है। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष Akhilesh Yadav ने बीजेपी को किसान विरोधी सरकार बताया है। Akhilesh Yadav ने Tweet कर लिखा, “आय दोगुनी करने का जुमला देकर कृषि क़ानून की आड़ में किसानों की ज़मीन हड़पने का जो षडयंत्र है वो हम खेती-किसानी करनेवाले अच्छे से समझते है। हम अपने किसान भाइयों के साथ हमेशा की तरह संघर्षरत हैं, जिससे एमएसपी, मंडी व कृषि की सुरक्षा करनेवाली संरचना बची-बनी रहे। भाजपा अब ख़त्म!” इसके बाद उन्होंने ने Media से बातचीत के दौरान भी कहा कि किसानों की मांगे जायज हैं। सरकार को ये कानून वापस लेना चाहिए। बता दें कि, किसान टीकरी बॉर्डर, सिंघु बॉर्डर डटे हुए हैं। अब किसानों का साथ देने के लिए भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर भी यूपी बॉर्डर पहुंच गए हैं। चंद्रशेखर आज़ाद ने किसानों की सराहना की और उनकी हिम्मत बढ़ाई। चंद्रशेखर ने इस दौरान कहा कि, “मैं इस आंदोलन को लीड करने नहीं आया हूं, बस इस आंदोलन में साथ देने आया हूं। किसान खुशी से सड़कों पर नहीं आए हैं।” वहीं किसानों और सरकार की बातचीत से पहले बीच बीजेपी के कई बड़े नेताओं ने बीजेपी अध्‍यक्ष जेपी नड्डा के घर बैठक हुई। जिसमें किसानों के प्रदर्शन चर्चा हुई है। बता दें कि विज्ञान भवन में किसान संगठन के प्रतिनिधियों और सरकार के बीच बैठक शुरू हो गई है। बैठक में जेपी नड्डा, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, गृहमंत्री अमित शाह और कृषि नरेंद्र सिंह तोमर भी मौजूद हैं। वहीं हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार को बड़ा झटका लगा है। निर्दलीय विधायक सोमबीर ने खट्टर  सरकार से अपना समर्थन वापिस ले लिया है। समर्थन वापस लेने का बाद सोमबीर सांगवान ने कहा कि, "किसानों पर किए गए अत्याचारों के मद्देनज़र, मैं मौजूदा सरकार से अपना समर्थन वापस लेता हूं। मैंने किसान विरोधी इस सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया है। ये सरकार किसानों के साथ हमदर्दी रखने के बजाय उन्हें रोकने के लिए पानी की बौछार, आंसू गैस के गोले जैसे सभी उपायों का इस्तेमाल कर रही है। मैं ऐसी सरकार को अपना समर्थन जारी नहीं रख सकता हूं।'' इस खबर के बारे में और अधिक जानने के लिए देखिए ये video…

 

Related videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept