पुणे के फेमस जॉर्ज रेस्टोरेंट की कहानी | George Restaurant Of Pune Serve Exciting Food #TastyAdda

Publish Date: 27 Nov, 2019

हमारे देश की संस्कृति पूरी दुनिया में अनूठी है। कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक देश में अलग-अलग तरह के कल्चर देखने को मिलते है और यहां मिलने वाले खान-पान में भी काफी विविधता है। दिलचस्प बात ये है कि खान-पान के मामले में हमारे देश की कुछ आईकॉनिक जगहें आजादी के समय से ही मशहूर रही हैं, जहां आज भी लोगों को अपने बचपन के दिनों का वही एक्साइटिंग स्वाद मिलता है। आज हम पुणे के ऐसे ही फूड आउटलेट के बारे में बात करेंगे, जिसका नाम है जॉर्ज रेस्टोरेंट। जब अंग्रेज भारत में थे, तो वे उन्हें उसी रेस्टोरेंट्स में खाना खाने की इजाजत होती थी, जिनका नाम इंग्लिश हो। उस समय में ब्रिटेन के राजा किंग जॉर्ज थे। अंग्रेज सैनिकों को लुभाने के लिए इस रेस्टोरेंट का नाम जॉर्ज रेस्टोरेंट पड़ गया। उस समय में यहां ब्रिटिश सैनिकों का खासतौर पर आना होता था। पहले के वक्त में पुणे में इतनी भीड़-भाड़ नहीं थी, लेकिन बाद में शहर कई बदलावों से गुजरा और पुणे के इस रेस्टोरेंट में थाईलैंड और ईरान से आए स्टूडेंट्स की संख्या बढ़ती गई। किंग जॉर्ज के समय में यहां 35-40 डिशेज मिलती थीं और अब इनकी वैराएटी बढ़कर 200 से भी ज्यादा हो चुकी है। इस रेस्टोरेंट में क्वालिटी मेंटेन करने पर काफी ध्यान दिया जाता है, साथ ही यहां हमेशा कुछ नए प्रयोग किए जाते हैं, जैसे कि यहां चाइनीज फूड फेस्टिवल और बर्गर फेस्टिवल का आयोजन होता है। यहां के बाशिंदे किस तरह से जॉर्ज रेस्टोरेंट का फूड एंजॉय करते हैं और पहले से अब तक के समय में यह रेस्टोरेंट किन बदलावों से होकर गुजरा है, जानने के लिए जरूर देखें ये एक्साइटिंग वीडियो।

Read More..