Haridwar Maha Kumbh 2021: अंतिम शाही स्नान आज, सीमित संख्या में श्रद्धालुओं ने लगाई गंगा में डुबकी – Watch Video

Publish Date: 27 Apr, 2021 |
 

 

Haridwar Maha Kumbh 2021: देशमें कोरोनावायरस की दूसरी लहर के बीच महाकुम्भ जारी है। आज चैत्र पूर्णिमा पर कुंभ मेले का अंतिम शाही स्नान है। हरिद्वार के हर की पौड़ी में गंगा नदी में सुबह से ही श्रद्धालुओं के स्नान करने का सिलसिला जारी है। पहले की तुलना में आज साधु–संत और श्रद्धालु की संख्या कम नजर आ रही है। आखिरी शाही स्नान के अवसर पर श्रद्धालु गंगा स्नान करने के बाद घाट पर पूजा अर्चना कर रहे हैं।

कोरोना महामारी को देखते हुए कई तरह के नए नियम लागू किए गए हैं। आम जनता सुबह 7 बजे तक स्नान कर सकती है। आम लोगों के बाद तमाम अखाड़ों के संतों का शाही स्नान शुरू हुआ और पूजा की। श्रद्धालु भगवान से कोरोना महामारी के खात्मे की भी प्रार्थना कर रहे हैं। बता दें कि चैत्र पूर्णिमा के मौके पर गंगा स्नान का महत्व बढ़ जाता है।

मेलाधिकारी दीपक रावत ने कहा कि केंद्र सरकार की कोरोना गाइडलाइंस को ध्यान में रखते हुए कुंभ की सभी परंपराओं का पालन भी की जा रहा है। सीमित संख्या में साधु-संत को आने दिया जा रहा है। इसके अलावा स्नान के लिए भी समय निधारित किया गया है। जिसका पूर्ण रूप से पालन किया जा रहा है।  

पीएम मोदी ने की थी अपील

गौरतलब है कि कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते पीएम मोदी ने संतों से अपील की है कि अब कुंभ को प्रतीकात्मक रखा जाए। पीएम मोदी ने एक ट्वीट किया है। जिसमे उन्होंने कहा है कि जूना अखाड़ा के आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि से फोल पर बात कर सभी संतो का हाल जाना है।  पीएम मोदी ने ट्वीट किया, “आचार्य महामंडलेश्वर पूज्य स्वामी अवधेशानंद गिरि जी से आज फोन पर बात की। सभी संतों के स्वास्थ्य का हाल जाना। सभी संतगण प्रशासन को हर प्रकार का सहयोग कर रहे हैं। मैंने इसके लिए संत जगत का आभार व्यक्त किया।” पीएम ने दूसरे ट्वीट में कहा कि,  “मैंने प्रार्थना की है कि दो शाही स्नान हो चुके हैं और अब कुंभ को कोरोना के संकट के चलते प्रतीकात्मक ही रखा जाए। इससे इस संकट से लड़ाई को एक ताकत मिलेगी।” इस खबर के बारे में और अधिक जानने के लिए देखिए ये Video…

 

 

Related videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept