India China Tension: गणेश हांसदा भारत-चीन सीमा पर शहीद, शहादत पर पूरे गांव को गर्व - Watch Video

Publish Date: 18 Jun, 2020
 
India China Tension: लद्दाख (ladakh) के गलवान घाटी (galwan valley) में भारत-चीन सैनिकों के बीच हिंसक झड़प (India-china face off) हो गई है। 20 भारतीय सैनिक शहीद हुए। इनमें से 13 बिहार के हैं। कई ऐसे भी हैं, जिनकी उम्र 21 से 25 साल के बीच है। इसी में झारखंड (Jharkhand) में जमशेदपुर (Jamshedpur) से 100 किलोमीटर दूर है बगरगोड़ा प्रखंड, यहां के गणेश हंसदा (Ganesh Hansda )की शहादत लद्दाख (Ladakh) के गलवान (Galwan Valley) में हो गई। गणेश को बचपन से ही सेना में जाने की तमन्ना थी। एक महीने पहले ही चीन सीमा पर पोस्टिंग हुई थी। गणेश कुंजाम मां-बाप के इकलौते बेटे थे। 27 साल के गणेश 12वीं के बाद ही सेना में भर्ती हो गए थे। पिछली बार जब वो छुट्टी में घर आए थे, तो उनकी शादी तय कर दी गई थी। गणेश कुंजाम के बड़े भाई दिनेश हांसदा ने बताया 'गणेश ही घर का सहारा था। वह सहारा भी हमसे छिन गया। अपने छोटे भाई को पढ़ाने के लिए मैंने खुद पढ़ाई छोड़ दी। पिता के साथ मेहनत-मजदूरी कर उसे पढ़ाया। आज वह हम सबको छोड़कर चला गया। उसके जाने का गम तो है पर वह भारत माता के लिए शहीद हुआ इस बात का गर्व भी है। सरकार यदि अवसर दे तो वह खुद भी देश रक्षा के लिए हंसते-हंसते अपनी जान न्यौछावर करने को तैयार है।' बता दें कि घरवाले शादी की तैयारियों में जुटे थे मगर कोरोना के कारण तारीख तय नहीं हो सकी। गणेश ने परिवार से कहा था कि कोरोना खत्म होने के बाद घर लौटेंगे, तभी शादी करेंगे। मगर उसके पहले उनके शहीद होने की खबर आ गई।
 

Related videos

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept