Jagran Dialogues : विशेषज्ञों के ये टिप्स घर खरीदारी को बना देंगे फायदे का सौदा – Watch Video

Publish Date: 06 Apr, 2021 |
 

Jagran Dialogues : अगर आप अभी किराये के मकान में रह रहे हैं और जल्द ही अपने सपनों का घर खरीदने की सोच रहे हैं तो ये Video आपके लिए है। Jagran Dialogues के इस एपिसोड में हम आपको प्रॉपर्टी की खरीदारी और रियल एस्‍टेट से जुड़ी शिकायतों पर विशेषज्ञों राय बताने वाले है। जागरण न्यू मीडिया के मनीश मिश्रा और अभिनव गुप्ता ने प्रॉपर्टी की खरीदारी और रियल एस्‍टेट से जुड़े सभी सवालों के जवाब तलाशने के लिए Anarock Property Consultants के चेयरमैन Anuj Puri और UP-RERA के सदस्‍य Balvinder Kumar से चर्चा की है।

Anuj Puri ने बताया कि, “रियल एस्टेट में इंवेस्टमेंट लाइफ टाइम का इंवेस्टमेंट होता है। किसी भी व्यक्ति का। पूरी जिंदगी वे काम करते हैं। लोग थोड़ी-थोड़ी पूंजी जमा करते हैं और इस बात की उम्मीद करते हैं कि उनका घर समय पर मिल जाएगा। साथ ही क्वालिटी वाला मकान मिल जाएगा। अब आते हैं कि यह मकान खरीदने का सही वक्त है या नहीं। हमने पिछले दो तिमाहियों में रियल एस्टेट सेक्टर में अभूतपूर्व तेजी देखी है। महाराष्ट्र सरकार द्वारा स्टांप ड्युटी में दो फीसद की छूट दिए जाने से अफोर्डेबल हाउसिंग के साथ-साथ लग्जरी मकानों की डिमांड में भी काफी वृद्धि देखने को मिली। उसके कई तरह के कारण हैं। इसमें सबसे बड़ा कारण है सामाजिक सुरक्षा का कारण। महामारी के समय में सबको लग रहा है कि मेरे पास अपना घर होना चाहिए।”

वहीं बलविंदर कुमार ने कहा कि, “केंद्र सरकार 2016 में रेरा कानून लेकर आई। उसके बाद अलग-अलग राज्य सरकारों द्वारा नियम बनाए गए। उसके बाद पीठों का गठन किया गया। इसका मुख्य उद्देश्य मकान खरीदारों को राहत दिलाना है। इसकी वजह यह है कि रेरा कानून आने से पहले बहुत से हाउसिंग प्रोजेक्ट विलंबित हो गए थे। बहुत से प्रोजेक्ट बंद हो गए थे। और लाखों मकान खरीदारों को इस बात की जानकारी नहीं थी कि उनके द्वारा निवेश किए गए पैसे के बदले प्रोपर्टी मिल पाएगी या नहीं या पैसे वापस मिलेंगे या नहीं। जिन लोगों ने खून-पसीने की कमाई रियल एस्टेट में लगा रखी थी और जिनके पैसे फंस गए थे, उन्हें किसी तरह की आशा की किरण नजर नहीं आ रही थी।  उत्तर प्रदेश में अब तक करीब 34,000 शिकायतें दर्ज हो चुकी हैं। इनमें 26,500 शिकायतों का निवारण हो चुका है।”

 

Related videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept