Kanpur Encounter: Vikas Dubey के गुर्गों को कैसे UP Police ने पकड़ा, जानें Prashant Kumar, ADG Law & Order से- Watch Video

Publish Date: 08 Jul, 2020
 
Kanpur Encounter: कानपुर में 8 पुलिसकर्मीयों के शहीद होने के बाद मुख्य आरोपी विकास दूबे की तलाश अभी भी जारी है। विकास दूबे की तलाश में पुलिस की 40 टीमें लगी हैं। विकास दुबे और पुलिस के बीच मुठभेड़ के 4 दिन पूरे हो चुके हैं। विकास का पांचवें दिन भी कोई सुराग हाथ नहीं लगा है। उस पर अब तक ढाई लाख रु. का इनाम घोषित किया जा चुका है। पुलिस टीम मंगलवार को उसके घर के मलबे की जांच करने पहुंची। यहां उसके हाथ कुछ सबूत लगे। मलबे से कई फर्जी आईडी और बम मिले हैं। फर्जी आईडी का इस्तेमाल विकास जमीनों की खरीद-फरोख्त में करता था। उसने अपने गुर्गों से संपर्क करने के लिए घर में ही वायरलेस कंट्रोल रूम बना रखा था। विकास ने अपने गुर्गों, रिश्तेदारों और नौकर-नौकरानी के नाम से कई चल और अचल संपत्तियां खरीद रखी थीं। पुलिस की जांच के दायरे में अब बैंक और फाइनेंस कंपनियां भी आ रही हैं। जिन बदमाशों की संपत्ति कुर्क की गई है उनमें नोएडा के सुंदर भाटी, मैनपुरी में नीरज यादव और लखीमपुर में वेदू उर्फ वेद प्रकाश जैसे बड़े बदमाश शामिल हैं, इन बदमाशों की करोड़ों की संपत्तियों को प्रशासन ने जब्त कर लिया है। फिलहाल कार्रवाई जारी है। आपके बता दें कि नीरज यादव के आवास को सील कर दिया गया है। वहीं आवास के बाहर पुलिस तैनात की गई है। करीब 60 लाख कीमत का आवास कुर्क किया गया है। अन्य अवैध संपत्ति के बारे में पुलिस जानकारी जुटा रही है। नीरज व उसके साथियों की गिरफ्तारी के लिए पांच टीमें बनाई गईं हैं। नीरज के गैंग को पूरी तरह से खत्म करेंगे। अपराधियों के प्रति किसी भी तरह की रियायत नहीं की जाएगी। अपराधियों का ठिकाना हर हाल में जेल की सलाखें होगा।
 

Related videos

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept