Coronavirus India Update : कोरोना से माता-पिता खोने वाले बच्चों को Free Education, इलाज और उच्च शिक्षा के कर्ज की होगी व्यवस्था

Publish Date: 30 May, 2021 |
 

 

Coronavirus India Update :

केंद्र सरकार ने कोरोना महामारी के दौरान अपने माता-पिता खोने वाले बच्चों के लिए बड़ा ऐलान किया है। ऐसे बच्चों को मुफ्त शिक्षा और इलाज की सुविधा मिलेगी। इसके साथ ही 18 वर्ष का होने पर मासिक आर्थिक सहायता और 23 वर्ष का होने पर 10 लाख रुपये की आर्थिक मदद मिलेगी। पीएम ने शनिवार को ट्वीट करते हुए कहा, कोरोना में अपने माता-पिता को खाने वाले सभी बच्चों को 'पीएम-केयर्स फॉर चिल्ड्रन' योजना के तहत सहायता दी जाएगी। ऐसे बच्चों को 18 साल की उम्र में मासिक वजीफा और 23 साल की उम्र में पीएम केयर्स से 10 लाख रुपये का फंड मिलेगा।

'पीएम-केयर्स फॉर चिल्ड्रन' स्कीम के तहत यह मदद की जाएगी। पीएमओ के अनुसार, अनाथ हुए सभी बच्चों को नि:शुल्क शिक्षा दी जाएगी। इसके साथ ही सरकार उन्हें लोने लेने में भी मदद करेगी। इस लोन पर ब्याज का भुगतान पीएम केयर्स फंड से किया जाएगा। वहीं आयुष्मान भारत योजना के तहत 18 साल तक के बच्चों को 5 लाख रुपये का मुफ्त स्वास्थ्य बीमा मिलेगा।

वहीं देश में कोरोना के मामलों की बात करें तो, स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी किए गए आंकड़ों केअनुसार,  देशमें कोरोना के मामले 2 करोड़ 78 लाख केपार पहुंच चुके हैं। पिछले 24 घंटे में कोरोना 1,65, 553 में नए मामलेसामने आए हैं। इसदौरान 2,76,309 रीज ठीक हो गए और3,460 लोगों की मौत हुई है। अब तक मरनेवालों की संख्या बढ़कर  3,07,231 हो गई है।

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) की ओर से जारी आंकड़े के मुताबिकदेशभर में कोरोना के लिए 29 मई तक  32,23,56,187 करोड़ टेस्ट किए गए। जिनमें सेएक दिनमें 20,63,839 नमूनोंकीजांच की गई। देश में संक्रमण के मामले बढ़कर  2,78,94,800 हो गए हैंजिनमें  21,14,508 लोगों का उपचार चल रहा है।  2,54,54,320 लोग उपचार के बाद इस बीमारी सेठीकहोचुके हैं। वहीं देश में वैक्सीनेशन अभियान तेजीसे चलाया जा रहा है। अब तक  21,20,66,614 लोगों को वैक्सीन दी जा चुकी हैं। इस खबर के बारे में और अधिक जानने के लिए देखिए ये Video…

 

 

Related videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept