PM Modi ने Sanskrit में किया Tweet- राष्ट्र रक्षा जैसा कोई पुण्य नहीं, कोई व्रत नहीं, कोई यज्ञ नहीं, राफेल का स्वागत है – Watch Video

Publish Date: 29 Jul, 2020
 
भारतीय वायुसेना की ताकत बढ़ाने के लिए France से 5 बेहद Rafale Fighter Jets भारत पहुंच चुके हैं। Rafale ने Ambala Airbase पर सफल लैंडिंग कर ली है। Rafale का पहला बैच दोपहर करीब 3:20 बजे अंबाला एयरबेस पहुंचा। Rafale को दुनिया के सर्वश्रेष्‍ठ Fighter Jets में शुमार किया जा जाता है और भारतीय वायुसेना के साथ जुड़ने से हमारी मारक क्षमता में कई गुना इजाफा हो जाएगा। इस खास मौके पर PM Narendra Modi ने अपने ट्विटर अकाउंट पर अम्बाला में राफेल की लैंडिंग होते हुए एक वीडियो शेयर किया है। PM Modi ने संस्कृत में एक ट्वीट करते हुए भारत में राफेल का स्वागत किया है। PM ने संस्कृत में ट्वीट कर कहा, 'राष्ट्र रक्षासमं पुण्यं, राष्ट्र रक्षासमं व्रतम्, राष्ट्र रक्षासमं यज्ञो, दृष्टो नैव च... नैव च... नभः स्पृशं दीप्तम्...स्वागतम्!' इस स्‍लोक का अर्थ है... राष्ट्र रक्षा से बढ़कर ना कोई पुण्य है, न कोई व्रत, ना ही कोई यज्ञ है, आकाश के दीप्‍तिमान स्‍वागत है। आपको बता दें कि विमानों का एयरबेस पर उतरने के बाद वाटर सैल्‍यूट (Water salute) देकर स्‍वागत किया गया। सोमवार को France के मेरिनैक से राफेल ने उड़ान भरी थी और अबू धाबी के पास अल ढफरा एयरबेस में एक दिन का स्टॉप था। टू लेग की इस उड़ान में Rafale करीब 7,000 किमी की दूरी तय करके अंबाला पहुंचे हैं। Rafale मिलने के बाद इंडियन एयरफोर्स की ताकत काफी बढ़ गई है। भारतीय वायु सेना के बेड़े की खास ताकत के तौर पर शामिल होने जा रहे Rafale के आगमन के बाद 20 अगस्त के आसपास औपचारिक इंडक्शन कार्यक्रम होगा। दोनों देशों के बीच 2016 में 59,000 करोड़ की राफेल डील हुई थी, जिसके तहत भारत ने फ्रांस से 36 राफेल फाइटर जेट खरीदे थे। इन फाइटर जेट्स को फ्रेंच एविएशन कंपनी दसॉ ने बनाया है। Rafale fighter jets को ओमनिरोल विमानों के रूप में रखा गया है, जो कि युद्ध के समय अहम रोल निभाने में सक्षम हैं। हवाई हमला, जमीनी समर्थन, वायु वर्चस्व, भारी हमला और परमाणु प्रतिरोध ये सारी राफेल विमान की खूबियां हैं
 

Related videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept