Pranati Nayak Biography : बस ड्राइवर की बेटी प्रणति नायक जिमनास्टिक में दिखाएंगी अपना हुनर, Olympic मेडल का ख्वाब होगा पूरा?

Publish Date: 22 Jul, 2021
Google Pranati Nayak Biography : बस ड्राइवर की बेटी प्रणति नायक जिमनास्टिक में  दिखाएंगी अपना हुनर, Olympic मेडल का ख्वाब होगा पूरा?

 

 

Pranati Nayak Biography : टोक्यो ओलंपिक में इस बार कई ऐसे चेहरे हैं जिन पर सबकी नजरें रहने वाली है और उनसे मेडल लाने की उम्मीद की जा रही है। उनमें से एक प्रणति नायक (Pranati Nayak) भी हैं।  प्रणति नायक ने अपनी प्रतिभा का लोहा पूरी दुनिया से मनवाया है। छोटे से करियर में उन्होंने तमाम उपलब्धि हासिल की हैं। प्रणति इस बार टोक्यो ओलंपिक के लिए पूरी तरह तैयार है। प्रणति नायक इस बार जिमनास्ट में अकेली भारतीय होंगी।


कौन हैं प्रणति नायक (Who is Pranati Nayak?)

प्रणति नायक एक भारतीय जिमनास्ट है, जो इस बार ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व कर रही हैं। प्रणति टोक्यो ओलंपिक में इस बार जिमनास्ट में अकेली भारतीय होंगी। प्रणति ने 2019 एशियाई जिमनास्टिक चैंपियनशिप में कांस्य पदक अपने नाम किया था। चूंकि नवीनतम एशियाई चैंपियनशिप को कोरोना महामारी के कारण रद्द कर दिया था, इसलिए 2019 चैंपियनशिप के आधार पर टोक्यो ओलंपिक के लिए कोटा दिया गया और इस बार वो भारत की एकमात्र जिमनास्टिक हैं जो ओलंपिक में गई हैं।


Pranati Nayak Personal Life & Background

प्रणति का जन्म 6 April 1995 को हुआ था। प्रणति भारत के पश्चिम बंगाल राज्य के झारग्राम शहर में रहती हैं। उनके पिता सुमंत नायक एक बस ड्राइवर थे जबकि प्रणति की मां प्रतिमा नायक एक गृहिणी हैं। प्रणति ने एनएसडब्ल्यू स्कूल ऑफ लैंग्वेज में पढ़ाई की है। प्रणति ने बचपन से ही काफी संघर्ष किया था प्रणति को महत्वाकांक्षा और सफल होने के लिए रास्ता पारिवारिक संघर्ष से ही मिला है।


Pranati Nayak Family

प्रणति नायक ने इंडियन एक्सप्रेस को दिए एक इंटरव्यू में बताया था कि, मैं जो कुछ भी करती हूं, वो मेरे माता-पिता के लिए है। उनका जीवन आसान नहीं रहा है। अब मैं यह सुनिश्चित करना चाहती हूं कि मेरे पिता आराम से रहें। मेरे पिता ने कई सालों तक बस चलाई है और अब मैं चाहती हूं कि अब जीवन उनके लिए थोड़ा आसान हो। मेरे माता-पिता के कोई बेटा नहीं है, लेकिन मैंने उनसे कहा कि उनकी देखभाल करने के लिए मैं ही पर्याप्त हूं।"

 

Pranati Nayak Career

प्रणति नायक ने 2004 में अपने स्कूल में जिमनास्टिक चुना और उन्हें साई सेंटर ऑफ एक्सीलेंस, कोलकाता में मीनारा बेगम के तहत प्रशिक्षण के लिए भेजा जाएगा। प्रणतिने मीनारा बेगम, 2019 तक, जब वह सेवानिवृत्त हुईं, इसके बाद उन्होंने, लखन मनोहर शर्मा के अधीन प्रशिक्षण लेने लगे।  प्रणति जकार्ता 2018 एशियाई खेलों में महिला वॉल्ट में 8वें स्थान पर रहीं। अगले ही साल हीएशियाई जिमनास्टिक चैंपियनशिप 2019 में हिस्सा लिया।

 

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by GYMNAZIEN ® (@gymnazien)

नायक के लिए मंगोलिया, उलानबाटार में 2019 एशियाई जिम्नास्टिक चैंपियनशिप में कांस्य पदक अपने नाम किया था। उन्होंने दो क्लीन लैंडिंग के बाद तीसरा स्थान हासिल किया था जिसमें उनका स्कोर 13.384 हो गया। बता दें कि इस उपलब्धि के बाद उन्हें अपनी आदर्श करमाकर और अरुणा रेड्डी केबाद तीसरे भारतीय जिम्नास्ट बन गईं। प्रणति नायक अपना आदर्श करमाकर (Dipa Karmaka) को मानती हैं।


Pranati Nayak ने एक साल तक नहीं की ट्रेनिंग

 
 
 
View this post on Instagram

A post shared by Pranati Nayak (@pranatinayak01)

Pranati ने Espn को बताया कि, "SAI कोलकाता जहां मैं प्रशिक्षण ले रही हूं, कोविड-19 की वजह से एक साल से बंद कर दिया गया है और अब यहां में भी लॉकडाउन है। मुझे बताया गया है कि मुझे अगले सप्ताह से प्रशिक्षण लेने की विशेष अनुमति दी जाएगी। एक बार मुझे अपनी क्वालीफिकेशन की आधिकारिक पुष्टि मिलने के बाद और अधिक आश्वस्त महसूस कर रही हूं। अब प्रमुख काम एक साल के प्रशिक्षण को फिर से पूरा करने का रहा है।"

Related Videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept