Farmers Rail Roko Abhiyan: इन राज्यों में दिख रहा रेल रोको आंदोलन का असर, दिल्ली में कई Metro Station बंद - Watch Video

Publish Date: 18 Feb, 2021 |
 

Farmers Rail Roko Abhiyan: नए कृषि क़ानूनों के विरोध में किसान यूनियन आज (18 फरवरी) रेल रोको अभियान (Rail Roko Abhiyan) के तहत कई ट्रेनों को रोककर अपना विरोध दर्ज कर रहे हैं। रेल रोको अभियान शुरू हो चुका है। रोको अभियान आज दोपहर 12 बजे से शाम 4 बजे तक चलेगा। इससे पहले किसानों ने चक्का जाम कर अपना विरोध दर्ज कराया था।

किसानों के रेल रोको अभियान को देखते हुए दिल्ली-एनसीआर में कड़े सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं। दिल्ली पुलिस की सलाह पर दिल्ली मेट्रो ने 4 मेट्रो स्टेशनों के एंट्री और एग्जिट गेट बंद कर दिए गए हैं। दिल्ली मेट्रो के Tikri Border, Pandit Shree Ram Sharma, Bahadurgarh City और Brig. Hoshiar Singh metro stations पर एंट्री और एग्जिट गेट बंद कर दिए गए हैं। बताया जा रहा है कि एहतियातन इन चारों मेट्रो स्टेशन के गेट शाम 4 बजे तक बंद किए गए हैं। इसके साथ ही जरूरत पड़ने पर और भी स्टेशनों के गेट बंद कराए जा सकते हैं।

दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी कि,'टिकरी बॉर्डर, पंडित श्री राम शर्मा, बहादुरगढ़ सिटी और ब्रिगेडियर होशियार सिंह स्टेशनों पर प्रवेश / निकास द्वार बंद कर दिए गए हैं।' वहीं रेल रोको अभियान को लेकर किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि इस दौरान रेलगाड़ियों पर माला पहनाकर रेलगाड़ियां रोकी जाएंगी। दिन के समय कम ट्रेनों की आवाजाही कम होती है। ऐसे में दिन के चार घंटों के लिए चुना गया है। इस दौरान किसी को भी परेशानी न हो इसलिए सबको पानी पिलाया जाएगा।

रेल रोको अभियान का असर अब दिखाने लगा है। आंदोलन के दौरान हजारों किसान रेल की पटरियों पर बैठें हुए नजर आ रहे हैं। आंदोलने को देखते हुए कई कई ट्रेनों को रद कर दिया है। रेल रोको आंदोलन की वजह से हरियाणा से चलने और गुजरने वाली करीब 60 ट्रेनों पर असर पड़ेगा। इन 60 ट्रेनों में से 12 ट्रेनें इस आंदोलन के दौरान हरियाणा में होंगी। इन्हें अलग-अलग स्टेशनों पर रोक के रखा जाएगा। दूसरे प्रदेशों में भी 4 घंटे तक ट्रेनें रुकी रहेंगी। इस खबर के बारे में और अधिक जानने के लिए देखिए ये Video….

 

 

Related videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept