Rajasthan CM on Love Jihad : Rajasthan CM Ashok Gehlot ने कहा, देश को बांटने के लिए गढ़ा गया लव जिहाद शब्द – Watch video

Publish Date: 20 Nov, 2020 |
 

Rajasthan CM on Love Jihad : लव जिहाद को लेकर सियासत अपने चरम पर है। कई राज्यों ने लव जिहाद कानून लाने का ऐलान किया है। मध्यप्रदेश और यूपी सरकार लव जिहाद पर कानून लाने वाली है। इसी बीच Rajasthan के CM Ashok Gehlot ने लव जिहाद पर हो रही राजनीति पर बीजेपी पर निशाना साधा। गहलोत ने शुक्रवार को बीजेपी को राष्ट्र को विभाजित करने और सांप्रदायिक कलह पैदा करने के लिए "लव जिहाद" शब्द का आरोप लगाया। गहलोत ने ट्वीट कर लिखा, ‘वे देश में ऐसा माहौल बना रहे हैं जहां वयस्कों की आपसी सहमति राज्य सरकार की दया पर निर्भर होगी। शादी विवाह व्यक्तिगत निर्णय होता है और वे इस पर लगाम लगा रहे हैं जो कि व्यक्तिगत आजादी छीनने जैसा ही है।’ मध्य प्रदेश की घोषणा के दो दिन बाद गहलोत की टिप्पणी आई कि यह जबरन धर्म परिवर्तन के लिए पांच साल की जेल के प्रावधान के साथ अंतरजातीय विवाह को विनियमित करने के लिए एक कानून बनाएगी। उत्तर प्रदेश और हरियाणा जैसे अन्य बीजेपी शासित राज्यों ने भी कहा है कि वे अंतर-विवाह विवाहों को विनियमित करने के लिए कानून बनाएंगे। आपको बता दें कि, मध्यप्रदेश के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने बुधवार को कहा कि पाकिस्तान और आईएसआई एजेंट लव जिहाद से जुड़े हैं। “पाकिस्तान और ISI एजेंट सीता को रुबिया में बदलने की साजिश करते हैं। हम कब तक सीता को रुबिया बनने देंगे, कब तक हम सीता को मरने देंगे? मुझे नरगिस और सुनील दत्त की तरह सच्चा प्यार दिखाओ। बताइए कितनी नरगिस ने सुनील दत्त से शादी की?” उन्होंने ने आगे कहा कि, मध्यप्रदेश सरकार लव जिहाद के खिलाफ सख्त कानून लाने वाली है। इस अपराध में 10 साल के कैद का प्रावधान होना चाहिए। बता दें कि लव जिहाद को लेकर सियासत गरमा गई है। कुछ दिन पहले गृह मंत्री मिश्रा ने कहा था कि, 'आगामी विधानसभा सत्र अहम होने वाला है, क्योंकि राज्य सरकार लव जिहाद को लेकर धर्म स्वातंत्र्य कानून के लिए विधेयक पेश करेगी। विधेयक के कानून बनने के बाद आरोपी पर गैर जमानती धाराओं के तहत पांच साल की सजा दी जाएगी। इस खबर के बारे में और अधिक जानने के लिए देखिए ये Video…

 

Related videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept