सब्जी विक्रेता ने इलाज के लिए जुटाए थे 2 लाख रुपये, चूहों ने कुतर डाले सभी नोट

Publish Date: 18 Jul, 2021
Google सब्जी विक्रेता ने इलाज के लिए जुटाए थे 2 लाख रुपये, चूहों ने कुतर डाले सभी नोट

 

Viral News : एक किसान की जमा पूंजी उसकी फसल की पैदावार होती है, जिसके लिए वो कई महीने तक खेत में मेहनत करता है और फसल से जो कमाई होती है उसी से किसान अपना घर चलाता है। लेकिन वहीं कमाई अगर डूप जाए तो किसान पर मुसीबतों का पहाड़ टूट जाता है। तेलंगाना के महबूबाबाद जिले में एक सब्जी विक्रेता भी ऐसी परेशानी का सामना कर रहा है। दरअसल, विक्रेता रेडया नाइक की कमाई को चूहों ने कुतर दिया। सब्जी विक्रेता ने अपनी सारी कमाई एक बैग के अंदर रखी थी जिसे चूहों ने पूरी तरह कुतर है।

सब्जी विक्रेता के चूहों ने कुतरे 2 लाख रुपये

The Times of India  की खबर के अनुसार, सब्जी विक्रेता रेडया नाइक ने बैग में लगभग 2 लाख रुपये थे, जिसे चूहों ने कुतर दिया है। किसान ने यह पैसे अपने पैट की सर्जरी के लिए बचाए थे। मिली जानकारी के मुताबिक, महबूबाबाद जिले के इंदिरानगर निवासी बुजुर्ग रेडया सब्जी बेचकर अपना घर चलाते है। रेडया हर दिन पास के गांव में जाकर सब्जी बेचते हैं। अचानाकर उनकी एक दिन तबीयत खराब हो गई। जिसके बाद वो निजी अस्पताल में डॉक्टर के पास गए तो डॉक्टर ने उनकी कई जांच की और पता कि रेडया पेट में ट्यूमर है। डॉक्टर ने बताया कि उनको जल्द ही सर्जरी करनी होगी और इसका कुल खर्च 4 लाख के करीब आएगा।

 

ट्यूमर की सर्जरी के लिए बचाए थे रुपये

सब्जी विक्रेता रेडया ने बताया कि उसके पास इतने पैसे तो नहीं थे कि वो तुरंत इलाज कर लें। लेकिन उसे जल्द ही इलाज करना था, क्योंकि उसका पेट का दर्द बढ़ता ही जा रहा था, जो अब सब्जी विक्रेता रेडया हो चुका था। उसने सब्जी बेचकर और कुछ उधार लेकर पैसा एकत्र किया। रेडया ने 2 लाख रुपये अपने इलाज के लिए जुटा लिए और एक सूती बैग में रखा और उसे अपनी अलमारी में रख दिया। हाल ही में जब उन्होंने सूती बैग खोला तो उन्हें नोटों के टुकड़े मिले। ये देखकर बुजुर्ग शख्स हैरान रहा गया कि उसके सारे पैसों को चूहों ने कुतर दिया।

बैंक ने रुपये बदलने से किया इंनकार

स्थानीय लोगों ने उसे बैंक पैसे बदलने की सलाह दी। इस पर बुजुर्ग शख्स बैंक भी गया लेकिन वहां पैसे बदलने से साफ मना कर दिया। अधिकारियों ने पैसे लेने से इनकार करते हुए हैदराबाद के रिजर्व बैंक जाने की सलाह दी। बुजुर्ग शख्स ने बताया कि, "सिर्फ एक बैंक नहीं, मैं महबूबाबाद के कई बैंकों में गया था, लेकिन अधिकारियों ने कहा कि वे नष्ट हुए नोटों को नए नोटों में नहीं बदल सकते।"

मदद के लिए आगे आईं मंत्री सत्यवती राठौड़

इस खबर के वायरल होने के बाद तेलंगाना की जनजातीय, महिला और बाल कल्याण मंत्री सत्यवती राठौड़ ने रेडया नाइक ने मदद का आश्वासन दिया। उन्होंने कहा कि रेडया नाइक जिस भी अस्पताल में अपनी सर्जरी करवाएंगे इसके  लिए वो वित्तीय सहायता भी प्रदान करेंगे। मंत्री ने कहा कि किसान को पैसे के नुकसान या उसकी बीमारी से निराश होने की जरूरत नहीं है क्योंकि उसे हर संभव मदद दी जाएगी।

 

 

 

 

Related Videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept