Tokyo Olympics 2020 : टोक्यो ओलंपिक के लिए जापान कितना खर्च कर रहा है, खेल देखने के लिए इतने दर्शकों को मिलेगी अनुमति

Publish Date: 16 Jun, 2021
Google Tokyo Olympics 2020 : टोक्यो ओलंपिक के लिए जापान कितना खर्च कर रहा है, खेल देखने के लिए इतने दर्शकों को मिलेगी अनुमति

 

Tokyo Olympics 2020: कोरोना महामारी के इस दौर में टोक्यो ओलंपिक को लेकर लोगों के मन में कई तरह के सवाल हैं। जैसे, जापान में अभी कोविड-19 की क्या स्थिति है? टोक्यो ओलंपिक का कुलबजट कितना है? ओलंपिक के आयोजन के लिए जापानकुल कितना खर्च कर रहा है? क्या जापान के पास ओलंपिक जैसे मेगा-इवेंट करने के लिए पर्याप्त चिकित्सा सुविधाएं और कर्मचारी मौजूद हैकोरोना महामारी के इस दौर में क्या जापान के लोगों ओलंपिक का आयोजित करने के लिए तैयार है? इन सभी सवालों के जवाब आपकों इस लेख में मिलने वाले हैं।


टोक्यो ओलंपिक खेल कब और कहाँ होने हैं?

सबसे पहला सवाल तो यही मन में सामने आता है कि ओलंपिक खेल कब से शुरू हो रहे हैं। बता दें कि ओलंपिक खेल जापान की राजधानी टोक्यो में 23 जुलाई से 8 अगस्त के बीच होने हैं। ठीक इसके बाद पैरालंपिक खेलों का आयोजन शुरू हो जाएगा। पैरालंपिक 24 अगस्त से 5 सितंबर के बीच होंगे।

 

टोक्यो ओलंपिक की कुल लागत कितनी है?

टोक्यो ओलंपिक और पैरालिंपिक के लिए कुल बजट 1.6  ट्रिलियन येन (15 बिलियन डॉलर) का नवीनतम बजट रखा गया है। यह पहले के बजट से 22% अधिक है। बजट शुरुआत में लगाए गए अनुमान से लगभग दोगुना बढ़ चुका है। खेलों के आयोजन के लिए बोली लगाने के समय अनुमान 800 अरब येन था।

 

टोक्यो ओलंपिक का खर्च कौन उठा रहा है?

यह तो आप ने जान लिया कि टोक्यो ओलंपिक में कुल कितना खर्च होने वाला है। अब आप ये भी जान लीजिए कि ओलंपिक का पूरा खर्च जापान उठा रहा है, लेकिन 2020 के आयोजकों के बीच इसे तीन तरह में बांटा गया है। इस खर्च को कुछ इस प्रकार बांटा है कि टोक्यो मेट्रोपॉलिटन सरकार और जापान की केंद्र सरकार के साथ मेजबान शहर टोक्यो इस खर्च का सबसे बड़े हिस्से को कवर करेगा।

 

ओलंपिक में कोई विदेशी परयटक का न होना जापान के लिए कितना महंगा पड़ेगा पड़ने वाला है?

ओलंपिक आयोजकों ने मार्च में कहा था कि दुनियाभर में कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते खेलों के लिए अंतरराष्ट्रीय दर्शकों को जापान में प्रवेश अनुमति नहीं दी जाएगी। इसके चलते कई मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि इस वजह से होटल, रेस्तरां और परिवहन क्षेत्र काफी प्रभावित होगा, और उन्हें करीब1.38 बिलियन डॉलर का आर्थिक नुकसान होने की संभावना जताई गई है। इसके साथ ही घरेलू दर्शकों की संख्या भी जल्द निर्धारित की जाएगी।


जापान ओलंपिक को लेकर लोगों की क्या है राय?

जापानकी जनता में 48% लोगों को लगता है कि कोरोना को देखते हुए खेलों को रद्द कर देना चाहिए। योमीउरी शिंबुन डेली की ओर से किए गए एक मतदाता सर्वेक्षण में ये बात सामने आई है। इस सर्वेक्षण में ओलंपिक को पूरी तरह से रद्द करने की मांग की गई है। इस सर्वेक्षण में ही 26% ने कहा कि खेलों को दर्शकों के बिना आयोजित किया जाना चाहिए। वहीं 24% ने दर्शकों की संख्या पर लगाई गई ऊपरी सीमा के साथ कार्यक्रम को करने के पक्ष में थे।


ओलंपिक से पहले जापान में कितनों को कोविड-19 टीकाकरण लग चुका है?

जापान में प्रति 100 लोगों पर 16 टीके की खुराक दी जाती है। अवर वर्ल्ड इन डेटा ऑगर्स के मुताबिक, जापान में प्रति 100 लोगों में लगभग 16 को टीके की खुराक काफी कम है, जो कि G7 की उन्नत अर्थव्यवस्थाओं के मुकाबले में कम है। अमेरिका में प्रति 100 लोगों पर 91 और जर्मनी में 69 खुराक दी जा चुकी है। आपको बता दें कि टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने वाले लगभग 80 प्रतिशत एथलीटों को पहले ही कोरोना टीका लगाया जा चुका है।


ओलंपिक जैसे मेगा-इवेंट के लिए क्या जापान के पास पर्याप्त मेडिकल स्टाफ होगा?

कोरोना महामारी के इस दौर में सबसे जरूरी है कि हम सब अपनी सेहत का ध्यान रखें। ऐसे में जापान खेलों के लिए प्रतिदिन 230 डॉक्टरों की तैनाती करने का फैसला लिया है। टोक्यो 2020 के अध्यक्ष सेको हाशिमोतो ने इस बात की जानकारी दी है। 230 डॉक्टरों और 300 नर्सों को प्रतिदिन खेलों में तैनात किया जाएगा। आयोजकों ने जरूरत के लगभग 80% मेडिकल स्टैब हासिल कर लिया है। जापान की जनता को सबसे ज्यादा चिंता इस बात की सता रही है कि विदेश आने वाले दर्शकों और खिलाड़ीयों की भीड़ टोक्यो ओलंपिक को सुपर-स्प्रेडर इवेंट के रूप में बदल सकती है।

 

Related Videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept