Umar Khalid Arrested: UAPA क़ानून क्या है? जिसके तहत Umar Khalid को किया गया गिरफ़्तार- Watch Video

Publish Date: 14 Sep, 2020
 

Umar Khalid Arrested: इस साल की शुरुआत में दिल्ली में हुए दंगों में भूमिका निभाने वाले जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (JNU) के पूर्व छात्र नेता उमर खालिद को गिरफ्तार कर लिया है। रविवार को देर रात दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की स्पेशल सेल ने उमर खालिद को गिरफ्तार किया। यह गिरफ्तारी गैरकानूनी गतिविधियां कानून यानी Unlawful Activities (Prevention) Act (UAPA) के तहत की गई है। स्पेशल सेल ने खालिद को 11 घंटे लंबी पूछताछ के बाद गिरफ्तार किया। आपको बता दें कि खालिद पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की यात्रा से पहले कथित रूप से दो अलग-अलग स्थानों पर भड़काऊ भाषण दिए जाने का आरोप है। खालिद पर ट्रम्प की यात्रा के दौरान कथित तौर पर जनता से सड़कों पर आने की अपील किए जाने को लेकर उनसे पूछताछ की की गई। संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के विरोधियों और समर्थकों के बीच हिंसा के बाद 24 फरवरी को उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सांप्रदायिक दंगे भड़क गए थे जिसमें कम से कम 53 लोगों की मौत हुई थी जबकि 200 के करीब घायल हुए थे। दंगे की साजिश को लेकर दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल 17 सितम्बर को जो चार्जशीट पेश करने वाली है उसमें उमर खालिद की पूरी भूमिका के बारे में बताया गया है। उमर खालिद की गिरफ्तारी यूएपीए के मामले में  हुई है। अब आपको बताते हैं कि UAPA है क्या। UAPA कानून देश की संप्रभुता और एकता को खतरे में डालने वाली गतिविधियों को रोकने के लिए 1967 में बनाया गया था। तब से लेकर अब तक इसमें चार बार संशोधन किए जा चुके हैं। 2004, 2008, 2012 और 2019 में इस कानून में बदलाव किए गए। इसके तहत ऐसे किसी भी व्यक्ति या संगठन, जो देश के खिलाफ या फिर भारत की अखंडता और संप्रभुता को भंग करने का प्रयास करे उस पर कार्रवाई की जाती है। इसके तहत आरोपी को कम से कम 7 साल की सजा हो सकती है। अभी तक इस कानून के तहत कई लोगों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। यूएपीए का इस्तेमाल आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर, लश्कर-ए-तैय्यबा के मुखिया हाफिज सईद, आतंकी जकी-उर-रहमान लखवी और आतंकी दाउद इब्राहिम के खिलाफ किया जा चुका है। 

 

 

Related videos

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept