Unnao Case: एक्शन में ADG Law & Order, विपक्ष हुआ हमलावर, जानिए- ट्विटर पर क्या है प्रतिक्रिया – Watch Video

Publish Date: 18 Feb, 2021 |
 

Unnao Case: यूपी के उन्नाव में 17 फरवरी की रात अचेतावस्था में 3 दलित लड़कियां खेत में दुपट्टे से बंधी मिलीं। इन तीनों में से 2 की मौके पर मौत हो चुकी थी लेकिन तीसरी लड़की  की हालत गंभीर है और उसको कानपुर के रीजेंसी अस्पताल भर्ती कराया गया है। इस घटना के बाद पुलिस प्रशासन ने जहां ये घटना हुई उसको अपने कब्ज़े में ले लिया है। किशोरीयों के परिवार को नजर बंद कर दिया गया है, उन्हें किसी से भी बात करने की अनुमति नहीं दी गई है। यहां तक की मीडियाकर्मियों को भी उनके पास नहीं जाने दिया जा रहा है।

इस घटना पर यूपी के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने कहा कि, बेहोश हुई युवती को इलाज के लिए कानपुर  रेफर कर दिया गया है। वहीं जिन किशोरियों की मौत हुई उनकी पीएम रिपोर्ट का इंतजार हो रहा है। इस घटना के बाद बबुरहा गांव को छावनी में तब्दील कर दिया है। बताया जा रहा है कि जनपद के 9 थानों की पुलिस फोर्स गांव में तैनात कर दी गई है। वहीं पीड़िता के गांव के लोग धरने पर बैठे हुए हैं। विपक्ष इस मामले में सीबीआई जांच करने की मांग कर रहे हैं।

वहीं अब इस मामले पर राहुल गांधी, समाजवादी पार्टी और भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर आजाद रावण की प्रतिक्रिया सामने आई है। उन्नाव की घटना पर राहुल गांधी ने Tweet किया कि, “केवल दलित समाज को ही नहीं यूपी सरकार महिला सम्मान व मानवाधिकारों को भी कुचलती जा रही है। लेकिन वे याद रखें कि मैं और पूरी कांग्रेस पार्टी पीड़ितों की आवाज बनकर खड़े हैं और उन्हें न्याय दिलाकर ही रहेंगे।” वहीं भीम आर्मी  के चीफ चंद्रशेखर आजाद ने Tweet किया कि, “उन्नाव केस की एकमात्र गवाह बच्ची का बेहतर इलाज व उसकी सुरक्षा सबसे जरूरी है। बच्ची को तत्काल एयर एंबुलेंस से AIIMS दिल्ली लाया जाए। उत्तरप्रदेश सरकार का अपराधियों को संरक्षण व अपराधियों के मामले में सरकार की कार्यशैली को देश हाथरस कांड में देख चुका है।”

वहीं इस मामले पर बॉलीवुड एक्टर स्वरा भास्कर सीएम पर निशाना साधते हुए tweet किया कि,  "और क्या होना बाकी है???? उत्तर प्रदेश में और क्या होना है कि अजय बिष्ट की सरकार का इस्तीफा मांगा जा सके.. और राष्ट्रपति शासन लागू हो?" इस खबर के बारे में और अधिक जानने के लिए देखिए ये Video…

 

Related videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept