Uttrakhand Political Crisis: तीरथ सिंह रावत ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पद से दिया इस्तीफा

Publish Date: 03 Jul, 2021 |
 

 

 

Uttrakhand Political Crisis:  उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावतने देर रात मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया। पिछले तीन दिनों से दिल्ली में रुके तीरथ को शुक्रवार दोपहर को ही बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने उनके विधानसभा उप चुनाव में आ रही संवैधानिक अड़चन की जानकारी देते हुए साफ कर दिया कि उनको सीएम का पद छोड़ना होगा। इसके बाद तीरथ उन्हें अपने इस्तीफे की पेशकश का पत्र सौंप देहरादून लौट आए।

 बता दें कि मुख्यमंत्री तीरथ ने रात्रि सवा 11 बजे राजभवन जाकर राज्यपालबेबी रानी मौर्य को इस्तीफा दे दिया। राज्यपाल ने उनका इस्तीफा मंजूर करते हुए नए मुख्यमंत्री के कार्यभार संभालने तक कार्यवाहक मुख्यमंत्री के रूप में बने रहने को कहा। नया नेता चुनने के लिए भाजपा विधायक दल की बैठक आज होनी है। 

 

मुख्‍यमंत्री तीरथ सिंह रावत क्या बोले

मुख्‍यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने पत्र में कहा हैं कि आर्टिकल 164-ए के हिसाब से उन्हें मुख्यमंत्री बनने के बाद छह माह में विधानसभा का सदस्य बनना था, लेकिन आर्टिकल 151 कहता हैं अगर विधान सभा चुनाव में एक वर्ष से कम का समय बचता हैं तों वहां पर उप-चुनाव नहीं कराए जा सकते हैं। उतराखंड में संवैधानिक संकट न खड़ा हो, इसलिए मैं मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा देना चाहता हूं।

आपको बता दें कि तीरथ सिंह रावत पिछले तीन दिनों से दिल्ली में डेरा जमाए हुए है और इस दौरान मुख्यमंत्री तीरथ सिंह ने बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा से दो बार मुलाकात भी की है। पौड़ी से लोकसभा सांसद तीरथ सिंह रावत ने इस साल 10 मार्च को मुख्यमंत्री का पद संभाला था। सीएम के पद बने रहने के लिए उन्हें 10 सितम्बर तक उनका विधानसभा सदस्य निर्वाचित होना संवैधानिक बाध्यता है।

उत्तराखंडमें फिलहाल विधानसभा की दो सीटें रिक्त हैं।  गंगोत्री और हल्द्वानी पर उपचुनाव कराया जाना है। क्योंकि प्रदेश में अगले ही साल फरवरी-मार्च में विधानसभा चुनाव होना है और इसमें बहुत कम समय बचा है, ऐसे में कानून के जानकारों का मानना है कि उपचुनाव कराए जाने का फैसला निर्वाचन आयोग पर निर्भर करता है। बता दें कि संविधान के अनुसार, एक मंत्री या मुख्यमंत्री को शपथ लेने के छह महीने के भीतर राज्य विधानमंडल के लिए निर्वाचित होना होता है।

 

 

Related videos

यह भी पढ़ें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept