Visakhapatnam Gas Leak: क्या है Styrene Gas? जानिए इसके लक्षण, साइड इफेक्ट और बचाव - Watch Video

Publish Date: 07 May, 2020
 
Visakhapatnam Gas Leak: आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में स्थित एक केमिकल प्लांट से जहरीली गैस के रिसाव के बाद यहां 1 बच्चे समेत 7 लोगों की मौत हो गई है। राज्य के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने भी गैस लीक मामले पर हालात का जायजा लिया। विशाखापट्टनम में तबाही मचाने वाली गैस को स्टाइरीन कहा जाता है। स्टीरीन का इस्तेमाल पॉलिस्टीरीन प्लास्टिक बनाने, फाइबर ग्लास, रबड़ बनाने में होता है। इसके अलावा पाइप बनाने, ऑटोमोबाइल पार्ट्स बनाने, प्रिंटिग और कॉपी मशीन, टोनर, फूड कंटेनर्स, पैकेजिंग का सामान, जूतों, खिलौनों, फ्लोर वैक्स, पॉलिश में होता है। यह रंगहीन या हल्का पीला ज्वलनशील लिक्विड होता है जोकि बहुत खतरनाक है। इस गैस के संपर्क में आने से व्यक्ति की जान भी जा सकती है। स्टाइरीन गैस बच्चों और सांस के मरीजों के लिए बेहद खतरनाक है। स्टाइरीन गैस का शरीर पर असर खतरनाक असर पड़ता है. इस गैस के संपर्क में आने वाले व्यक्ति को सांस लेने में परेशानी, शरीर पर रैशेज, आखों में जलन, उल्टी और बेहोशी जैसी दिक्कतें होने लगती हैं। इस गैस की चपेट में आने से सेन्ट्रल नर्वस सिस्टम बुरी तरह खराब हो सकता है। सुनने की क्षमता भी खत्म हो सकती है और दिमागी संतुलन खत्म हो सकता है। इस गैस से प्रभावित लोगों को जल्द से जल्द इलाज मिलना चाहिए। और अधिक जानकारी के लिए देखें ये वीडियो।
 

Related videos

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept