QR Code क्या होता है? कैसे किया जाता है इसका प्रयोग- Watch Video

Publish Date: 27 Jul, 2020
 
कोरोना वायरस का कहर रुकने का नाम नहीं ले रहा है लेकिन रेलवे इस दौरान भी आम जनता के लिए काम कर रही है। अब आपको बता दें कि क्यूआर कोड के जरिए यात्री टिकट चेक किए जाएंगे। कोरोना के बढ़ते मामलो को ध्यान में रखते हुए रेलवे स्टेशनों पर संपर्क रहित टिकट जांच और सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों को बढ़ावा देने के लिए कॉन्टेक्टलेस टिकट चेकिंग सिस्टम (Contact Less Ticket Checking) लागू किया है। लोगों के बीच कम संपर्क रखने के लिए टिकट काउंटर और ट्रेन के भीतर एक नया नियम लागू होने वाला है। भारतीय रेलवे ने सभी ट्रेन टिकटों में क्यूआर कोड सिस्टम (QR Code System) लागू करने का फैसला किया है। बहुत जल्द आपको रेल में सफर करने के लिए टिकट नहीं क्यूआर कोड (QR Code) की ही जरूरत पड़ेगी। तो चलिए इस वीडियो में आपको बताते हैं कि QR Code होता क्या है। QR Code का full form है quick response Code. यह एक तरह का बारकोड होता है जिसे मशीन के जरिए पढ़ लिया जाता है। एक जापानी कंपनी 'डेंसो वेव' ने साल 1990 में क्यूआर कोड का आविष्कार किया था। भारत में क्यूआर कोड भुगतान प्रणाली व्यापक तौर पर तीन तरह से - भारत क्यूआर, यूपीआई क्यूआर और प्रॉप्रिएटरी क्यूआर के जरिए काम करती है। बता दें कि पैसों के सुरक्षित लेन-देन के लिए ई-वॉलेट में इसका उपयोग होता है। इसमें कोड स्कैन करने के बाद पैसों का ट्रांजेक्शन होता है इसलिए ऑनलाइन खरीद-फरोख्त में इसका धड़ल्ले से उपयोग हो रहा है। किसी उत्पाद, फिर चाहे वो किताबें हों या अखबार या फिर वेबसाइट सबका एक क्यूआर कोड होता है। और जानकारी के लिए देखें ये वीडियो।
 
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept