Real Mango Software क्या होता है, कैसे करता है काम- Watch Video

Publish Date: 11 Sep, 2020
 

Real Mango Software: रेलवे सुरक्षा बल (RPF) ने रियल मैंगो सॉफ्टवेयर के उपयोग को अवरुद्ध कर दिया। रेलवे ने भी जांच की और असम, बिहार, पश्चिम बंगाल और गुजरात में 50 लोगों को गिरफ्तार किया। चलिए अब आपको बताते हैं कि रियल मैंगो सॉफ्टवेयर होता क्या है। रियल मैंगो सॉफ्टवेयर आईआरसीटीसी वेबसाइट पर तत्काल टिकट बुकिंग के लिए विकसित एक अवैध सॉफ्टवेयर है। सॉफ्टवेयर पहले 'रेयर मैंगो' नाम से था। अब जानते हैं कि ये कैसे काम करता है। टिकट बुक करते समय, एजेंट आईआरसीटीसी वेबसाइट पर लॉग इन करता है और सॉफ्टवेयर की मदद से कैप्चा कोड को बायपास करता है। इतना ही नहीं, सॉफ्टवेयर बैंक ओटीपी के साथ सिंक हो जाता है और टिकट बुक करने के लिए यात्री की जानकारी को स्वचालित रूप से भर देता है। इसका उपयोग मुख्य रूप से एजेंट द्वारा अवैध तरीकों से तत्काल टिकट बुक करने और ग्राहक को उच्च कीमत पर बेचने के लिए किया जाता है। अब जानते हैं कि कैसे बेचा जाता है ये Illegal Software. 

अवैध सॉफ़्टवेयर five-tiered structure: 

1- System Admin and his team

2- Mavens

3- Super Sellers

4- Sellers

5- Agents

आपको बता दें कि डेवलपर या सिस्टम व्यवस्थापक बिटकॉइन के माध्यम से केवल इस सॉफ़्टवेयर के लिए भुगतान स्वीकार करता है क्योंकि सरकार का बिटकॉइन द्वारा किए गए लेनदेन पर कोई नियंत्रण नहीं है। इसके अलावा, बिटकॉइन के माध्यम से किए गए लेनदेन का पता नहीं लगाया जा सकता है। 

 

 

 

Related videos

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept